• i_tusharagarwal 5w

    भरोसा नहीं एब किसी से, जो आया गिरा कर गया
    पैसे की दौड़ में, सब मतलबी बन गया
    उम्मीद मत करना ए दोस्त किसी से, बाहर वाले से पहले घर वाला गिरा गया
    नहीं पसंद किसी को किसी की खुशी, ज़हर उगलने पूरे घर वाला ही आगया
    मत करना उम्मीद "मां बाप" को चोड कर किसी से , सब पैसे के पीछे कुत्ता बन गया....
    ©i_tusharagarwal


    Tushar.