• kitbagkitkat 31w

    मान जाना

    खुद को मेरी दुनिया बनाकर
    चली गई न मुझको यहां करके, बेगाना

    अपनी रूह से मेरी रूह की पहचान कराकर
    बना दिया न तूने मुझको, अंजाना

    तेरे बिन ज़िंदा मैं बहुत तकलीफ में हुँ
    आखिर अब मौत तो तू मेरी, बन जाना

    और अगर मौत देने में तरस आजाए
    तो बस एक बार वापस आने के लिए , मान जाना