• brijesh1311 23w



    मैं ज़ाती नहीं, ज़माने की बात करता हूँ ।
    ज़माने से ही बटोर कर, ज़माने को ही बाँट देता हूं ।

    - बृजेश मडंल