• ranasunidhisingh 8w

    सावन की हर एक बुँदे बदन को चूम रही हैं,
    तेरे प्यार मे तो आज धड़कन भी झूम रही हैं ।
    ©ranasunidhisingh