• megs0808 30w

    हूँ मैं तुझसे ख़फा , या तू ही है बेव़फा
    ऐ मेरी ज़िंदगानी , रहती तू यूं कुछ मुझसे बेगानी
    थे मेरे कुछ ऐतराज, और कुछ तेरे भी
    चाह के भी ना चुन पाई तू मुझे, दफन ही रह गए वो कुछ राज़ वैसे भी ।
    ©megs0808