• aarbsana 31w

    क्या मंदिर क्या मस्जिद सब जगह हो रहा गुनाह हैं।
    शैतानों को अपने पास अब खुदा भी देता पनाह हैं।
    हैं खुदा गर इस दुनिया में तो होता क्यों बेजुबान हैं।
    सबकुछ देख चुप रेहना फिर काहेका भगवान् हैं।
    बचपन से हमें बताया गया सबकी रक्षा करता भगवान हैं।
    क्यों नहीं कर रहे हैं रक्षा उनकी जिनकों नोच रहा शैतान हैं।