• _varshak 23w

    By unknown writer

    Read More

    जूते फटे पहेन कर आकाश पर चढ़े थे।
    सपने हमारे हरदम औकात से बड़े थे।