• mindlines_22 5w

    _________♡♡पहली मुलाकात♡♡________

    सुबह होते ही बाग़ में मिलने के लिए
    तेरा पैगाम आया था
    पहली बारी में ही मेने देरी से आके
    तुझ से इंतजार करवाया था
    जब में तेरे पास आयी थी
    तेरे होटों पे हसीन मुस्कान छायी थी
    जब तूने मुझे पास बैठने की आरजू कियी
    मेरी धड़कने तेज हो गयी और
    मेरे दिल की जुस्तजू खत्म हो गयी
    मुझे याद है वो बातें जो तूने छेड़ी थी
    मेरे लबों पे तो कितनी हसीं खिली थी
    जब हस्ते हस्ते ताली देने मेरा हाथ तेरे हाथ में आ गया था
    तेरा स्पर्श हाथों से सीधे मेरे दिल को छू गया था
    तेरी पलक झपक गयी और तू होश में आ गया
    पानी में तैर रहा एक कीड़ा तूने देखा
    और उसे हाथ में लेके तूने मुझे डराया
    डर के मारे में तेजी से चिल्लाई झट से उठ गयी
    और अपना संतुलन गवायी
    पैर फिसल गया मेरा और में पानी में गिर रही थी के
    तूने मेरा हाथ पकड़ लिया
    मेरी बंद आंखें खुल गयी और मैं होश में आ गयी
    मेने अपना हाथ तेरे हाथ से छुड़वा लिया
    और खुद को सवारलिया
    हमारे आस पास का नजारा बड़ा हसिन था
    फिर हमने इस मनमोहक नज़ारे का आनंद लिया
    बाग़ में खिले हुए फूलों की जवानी
    बारिश का पानी
    उन नाचते हुए मोरों की दीवानी
    इस तरह ये कहानी
    हमारी मोहोब्बत की पहली निशानी बन गयी.
    ~Vaishnavi Shinde ♥️

    ________________♡♡♡♡♡♡__________________

    Read More

    पहली मुलाकात

    बाग़ में खिले हुए फूलों की जवानी
    बारिश का पानी
    उन नाचते हुए मोरों की दीवानी
    इस तरह ये कहानी
    हमारी मोहोब्बत की पहली निशानी बन गयी.
    ~Vaishnavi Shinde ♥️