• payal_anant 22w

    चुप्पी वो भी रखती है
    खामोश मैं भी रहती हूँ

    वो मुझे तकती है
    मैं उसे देखती हूँ

    वो जगती रहती है
    ना मैं सोती हूँ

    मैं गुम हूँ यहाँ इस भीड़ में,
    चाँद-तारों से भरे आसमान में अकेली वो भी रहती है

    शायद, रात मुझ जैसी है
    या मैं रात सी हूँ...।

    ☘पायल अनंत
    ©payal_anant