• theunheardsoul 31w

    लब्जो में बुन लेते तुम मुझे
    तो भी क्या बात थी,
    तकदीर में तो तुम्हारा साथ ना लिख था
    कम से कम
    तुम्हारे शब्दों मैं ही अमर हो जाते।


    ©आशिमा कोचर