• surajsharma 31w

    मत रूठ मेरे ए मौला,
    मैं तूझे ख़ुश करने की वजह तलाश लूंगा,
    तेरी इस बेरंगी दुनिया को,
    मैं फिरसे हरा करने की तरकीब तलाश लूंगा,
    फिर चाहे तो मुझे अपने पास बुला लेना,
    मैं तेरी इक झलक के लिए, इस दुनिया को त्याग दूंगा।
    ©surajsharma