• true_emotional_feeling 27w

    तेरी हर बातों को हर वक्त मानते थे हम ना कोई शिकवा किया ना कोई शिकायत की हर दफा हर समय हर ख्वाहिश को पूरा किया हमने क्या सजा थी मेरी क्या खता थी मेरी क्या गलती थी मेरी है तूने मेरे साथ ऐसा किया तोड़कर सारे रिश्ते छोड़कर मुझको इस जहां में जो जहां ना मेरे लायक था क्यों गए तुम मुझ को इस लायक छोड़कर जिंदगी ने मुझको दी दगा मुझे था नहीं पता ऐसा शायद हम नहीं थे लायक तुम्हारी इसीलिए लापता छोड़ दिया तुम खुश रहो जहां भी हो यह मेरा वादा है जिंदगी थी जिंदगी हो जिंदगी ही रहोगी शायद मेरी ना सही किसी और की तो सही पर साथ ना छोड़ना उसका जो था आपके लिए जिंदा शायद हम रहे ना रहे जिंदगी का क्या पता वह जिंदगी आपकी है किसी और के नाम मत करना शायद वह अपने नाम खुद की जिंदगी न कर सके जो आपके नाम कर दिया


    ©true_emptional_feeling