• shashank_4511 22w

    खामोश चेहरे पर हज़ारों पेहरे होते है,
    हस्ती आँखों मे भी ज़ख्म गहरे होते है..

    जिनसे अक्सर रूठ जाते है हम,
    असल में उनसे ही रिश्ते गहरे होते है..

    बुझ जाते है दिए कभी तेल की कमी से,
    हर वक़्त कसूर हवा का नही होता..