• cb_m_a_r_t 35w

    अनोखा प्यार

    प्यार भी क्या अजीब सी नुमाइश है उस खुद की , कोई भूल नहीं पाता तो किसी को याद नहीं बिताये हर पल के याद की ,
    जिंदगी तो कट ही जाती है बेजुबान पंक्षियों की भी , तो इंसान होने का फ़ायदा ही क्या जब ठोसता नहीं किसी की बात की ।

    C.BM
    ©cb_m_a_r_t