• anandkush 23w

    भावनाये भी मोती की तरह होती है।
    हम इन्हें फैलाना भी उन्ही के सामने चाहते है जो इन्हें समेट कर धागे में पिरोना चाहे।।