• swapnilk 34w

    #प्यार

    Read More

    खयाल...

    अकसर खयालोंमे डुबा रहता हूं,वो आज आयेगी जरूर ऐसा खुदको समझाता हूं.....
    खयालोंमे जब मिलता ‌हूं उसे,तो मिलनेकी ख्वाहिश को खयालोंमेही पुरा कर लेता हूं.....
    क्यूंकी वो बंदी है सीमाओंमे समाजके,
    वो इस वक्त मुझसे मिलने नही आ‌ सकती.......
    लेकीन गुजर जायेगा‌ यह वक्त भी.....
    ©swapnilk