• anushkamishra 35w

    कभी वो रातें थीं,
    तेरी बातों से नींदे उङ जाया करती थी।

    अब तो बस,
    तेरे इंतज़ार में आँखे खुली रहती हैं।

    दुश्मनी तेरी आखिर,
    मेरी नींद से क्यो है?

    -अनुष्का