• hullas98 30w

    एक जंगल है

    एक जंगल है
    जंगल में बेतरतीबी से वृक्ष खड़े
    वृक्षों पर है सांप लिपटे पड़े
    वृक्ष के कोने में एक कोटर
    कोटर में घना अँधियारा
    अंधियारे में एक भोला सा पक्षी
    साँपों से डरकर
    छिपा बैठा बेचारा।
    कहाँ से आया
    कैसे आया
    होकर इतना घायल
    पर साहस तो देखो
    पंख कटवाकर भी
    है मन में जीवन की आस लिए

    है आँख खुली पर देख रहा केवल अंधियारा
    जागृत कानों से सुन पा रहा केवल फुफकार मृत्यु की
    सोचता है पर सोच नहीं पाता
    भय से तनिक भी चिल्लाता
    सहसा
    अंधियारे में कटी पतंग से दिखते है बीते सुनहरे क्षण
    जुगनू की चांदनी में चमक उठता कोटर
    उल्लासित हो वह छोटा सा पंछी चिंहुक उठा
    फिर एक तूफान उठा
    उसके बाद गहरा सन्नाटा।।

    ©hullas98