• anurag1808 5w

    MOHABBAT की COLLEGE

    हम chahte ही nhi हमे mohabbat हो जाए
    करोगे mohabbat तो kuch यू mohabbat होगी
    कभी sak होगा mujhpe कभी shikayat होगी
    जिनसे wasta नही unse अदावत होगी
    शहर se नफरत duniya से bagawat होगी
    हम seh जाएंगे tum शह naa पाओगी
    कैसे jamane के sitam उठाओगी
    समझायेंगे ghar वाले toh मुझसे khafa हो जाओगी
    मैं tanha रह jaunga तुम bewafa हो जाओगी
    तुम ho जाओ bewafa ऐसी naubat ही kyu आये
    हम chahte ही nhi हमे mohabbat हो जाये
    ©anurag1808