• wolfandthemoon 10w

    पिता -
    ये नाम नहीं है
    इस जज़्बात मे कैद है, इस जीवन भर की आशा |
    जिसने बचपन से पाल- पोसकर, खून-पसीने से अपने बच्चों को सींचा,
    उसी माली की तरह जिसके जीवन मे उसके खिलते फूल ही उसके जीवन का सार है, जिसने कड़ी धूप मे भी अपने पौधो को बचाया और तेज़ आंधी तूफ़ान मे भी उनको छाँह दी |
    वो एक इंसान जो हर गलती को माफ करने का हौसला रखता है, जो गलती करने पर डाटता भी है, लेकिन जीवन के हर एक कठिन मोड़ पर सबसे पहले खड़ा, तुम्हारी हिम्मत भी बनता है|
    तुम्हारी वो एक मुस्कान उसकी जिंदगी भर की थकन का निचोड़ से कहीं गुना ज्यादा होती है|
    वो अपने कंधों पर बिठा, उन नन्ही आंखों को जिंदगी का सार सिखाता है|
    खुद चाहे कितना भी हारा हो, तुम्हारा मस्तक नहीं झुकने देता|
    बहुत मुश्किल है उस व्यक्ति को यूं कुछ शब्दों में समेट पाना, वह तो एहसास है जिसको बस महसूस किया जाता है|
    तो, ना ही इस कविता का कोई अंत होगा, ना कभी उसके किए उपकारों का..

    -यामिनी