• ranasunidhisingh 8w

    इस सावन, तेरे नाम की मेहंदी रचाई हूँ,
    तुझे अपनी चाहत मे भिगोने का ख्वाब सजाई हूँ।
    ©ranasunidhisingh