• andaaz_e_shaayaraana 10w

    तस्वीर है किसी की ख़ूबसूरत मेरे ज़हन में...
    बस दिखता नहीं वो मुझको - मिलता नहीं वो मुझको...
    "अंदाज़" तो ठहरा कलमकार...
    और मिलता भी नहीं वो कम्बख्त मुसव्विर...
    जो रच दे उसको किसी कागज़ में...

    * "कम्बख्त = कमीना"
    * "मुसव्विर = चित्रकार"

    - अंदाज़ - ए - शायराना