• rohitsrivastva 4w

    मुहब्बत या जुआ

    मुहब्बत खुदा है इंसान खुदा की इनायत गवा देते है
    हम आँखे बंद कर के जिसे चाहते है वही सजा देते है
    मुहब्बत दूर कर देते है अपनो से जो अपने हमारी खुशियों की दुआ देते है
    वरना लोग दुनिया मे बहोत है जो अपने बन के अपना बना के दगा देते है
    एक दौर था जब मुहब्बत मे सब कुछ दाव पे लगा देते थे आज कल लोग मुहब्बत को ही दाव पे लगा देते है

    मेरी कलम
    ©rohitsrivastva