Grid View
List View
Reposts
  • ritikasodhi 10w

    तुमने तो हमसे नाराज होना भी छोड़ दिया है
    अब देखो
    इतनी नाराजगी भी अच्छी नहीं

  • ritikasodhi 14w

    By unknown writer

    Read More

    मुझे पसंद नहीं तेरा
    किसी और से भी ताल्लुक रखना
    बारिश की बूंद भी तुझे छू ले
    तो आग लग जाती है

  • ritikasodhi 15w

    कुर्बान कैसे ना जाऊं
    मैं उस हकीम पर
    नुस्खे में जिसने
    आपका दीदार लिख दिया

  • ritikasodhi 15w

    आज फिर तेरी यादों में बह गए
    चाय पी ली और
    बिस्किट रह गए!!

  • ritikasodhi 15w

    एक तेरा ख्याल ही तो है मेरे पास
    वरना कौन अकेले में बैठकर
    मुस्कुराता है!!

  • ritikasodhi 19w

    Hum bhi khamosh hoke
    Tera sabar aazmayenge
    Dekhte hai Ab tujhe
    Hum kb yaad aayenge

  • ritikasodhi 22w

    Zikar tera hua to
    Hum mehfil chor aaye
    Auron ke labon pe
    Tera naam hume acha nhi lgta

  • ritikasodhi 22w

    Laakh mithaas ho
    Tere lehze mein lekin
    Tera auron se baat krna
    Mujhe zeher lgta hai

  • ritikasodhi 24w

    Kaash dil ki awaaz
    Mein itna asar ho jaaye
    Hum yaad kre unko aur
    Unhe khabar ho jaaye

  • ritikasodhi 26w

    जो जले थे हमारे लिए
    वो बुझ रहे है सारे दिये
    कुछ अंधेरों की थी साजिशें
    कुछ उजालो ने धोखे दिए