riyabansal

Not in any Race✌ Lecturer ��2May

Grid View
List View
Reposts
  • riyabansal 14h

    Sakshi is one of our relative's relative but its too late nd we have lost her...She was a Resident doctor nd bcoz of the pressure nd torture of her seniors she ended her life...nd now her family is waiting for the justice
    Nd thus we lost a diamond ...


    #mirakee #panchdoot

    Read More

    .

  • riyabansal 1d

    सहेज कर रख ली हैं तुम्हारी सभी गज़ल ओ नज़्म मैने
    नवाजिश हर बार वाह वाह से हो, जरूरी तो नही!!
    ©riyabansal

  • riyabansal 2d

    #mirakee #anitya @arshaa @_smilie_ #osr @shabir_ @coolstrawberry @polyphony @philosophic_firefly @jignaa @odysseus

    हमारे शहर की पहली बारिश �������� थोडा़ ज्यादा शायराना हो गया है ��

    Read More

    मेरे हमसफर

    देख कर मुझे जब तुम यूँ मुस्कुरा देते हो
    उसी पल ये दिल बहारों से सजा देते हो

    शब्दों की जादूगरी जाने सीखी कहां से है
    उलझने मन की एक पल मे सुलझा देते हो

    पास आकर जो बैठते हो कुछ देर को मेरे
    एक बार फिर मुझे मुझी से मिला देते हो

    कहते हो रिहा होना नहीं जुल्फों के साए से
    फिर क्यूं भरी महफिल मे हाथ छुडा़ लेते हो

    बांध लिया है सदा के लिए प्रीत की डोर से
    मौजूदगी मे रफ्तार धड़कनो की बढा़ देते हो

    दिल तोड़ कर जोड़ देते हो अलग अंदाज मे
    बोलो न यह हुनर आखिर कहां से लाते हो
    ©riyabansal

  • riyabansal 3d

    किस्से कहानियाँ

    किस्से कहानियां बिल्कुल वैसे नहीं लिखे जाते
    जैसे जिये जाते हैं
    एक अंतराल जो आ जाता है
    जब जिये जाते हैं तब कहाँ लिखे जाते हैं
    और जब लिखने तक आते हैं
    तब तक ख्यालात बदल जाते हैं
    कुछ कुछ धुँधले भी तो हो जाते हैं
    अल्फाजों का रंग चढ़ते चढ़ते
    कुछ बेरंग कहानियां रंगीन हो जाती है
    तो कुछ रंगीन कहानियां बेरंग
    कविता की शक्ल तक पहुंचते-पहुंचते
    कोशिश की जाती है एक बार फिर से
    दोबारा जीने की उन्हे
    तो क्या जी कर दोबारा
    भूला दिये जाते हैं
    सभी किस्से कहानियां ????
    ♥♥♥
    ©riyabansal

  • riyabansal 4d

    A late night thought��
    For all who suffer from insomania����
    Bty Good morng mirakee family
    Have a nice day��

    Read More

    हक नही रहा ख्वाबों को मुझे सताने का
    करार नींद से मेरा कब का टूट चुका
    ©riyabansal

  • riyabansal 5d

    #mirakee #writerstolli #readwriteunion #writersnetwork

    तगाफुल -ignorance
    अना -ego
    मलाल -Regression
    उलाहने -complains

    Read More

    From End to Begining

    न शिकायत ,न गुस्सा, न तकरार लिखूंगी
    सोच रही हूं कि बस अब प्यार लिखूंगी

    परत दर परत खुल कर थम गए तूफां मन के सभी
    कि अब बारिश की ठंडी सी फुहार लिखूंगी

    गलतियां ,सीख ,सबक आखिर कब तक लिखें
    अपनी जीत का जश्न और विजय का गान लिखूंगी

    अतीत की मजबूरियां न बनेगीे बेड़ियां आज की
    मैं खुले आसमां में अपनी ख्वाइशों की परवाज लिखूंगी

    टूटे विश्वास के उलाहने ,मलाल मन के क्यूं रखें संभाल कर
    इस खूबसूरत सी जिंदगी पर अपना एतबार लिखूंगी

    वो तगाफुल ,वो झूठी अना, सब सौंप दिया, था जिनका भी
    खुद को अपने एहसासों और खुशियों का अमानतदार लिखूंगी
    ♥♥♥
    ©riyabansal

  • riyabansal 5d

    Random thought��

    Read More

    मिल कर तुमसे हर बार खयाल आता है यही
    कायम है अच्छाई दुनिया मे आज भी कहीं न कहीं

    ©riyabansal

  • riyabansal 1w

    #mirakee

    शब -night
    सहर-morning

    Read More

    शब भर चाँद बहकने दें
    गुफ्तगू तारों में चलने दें

    बंद आंखों से महसूस करें
    हाथों में हाथों को रहने दें

    सुन लें सरगम धड़कन की
    खामोशी को सब कहने दें

    नजर ना खुद को भी आएँ
    कुछ ऐसे गुम हो जाने दें

    फिकर न कोई सहर की हो
    शब भर खुद को जीने दें

    ©riyabansal

  • riyabansal 1w

    Call for rain in mirakeens style����☔

    Read More

    सुनो ना पागल बदरी
    अब तो बरस जाओ ☔
    सच तुम्हारे आने से मुझे कोई परेशानी नहीं
    हाँ कुछ खास पसंद नहीं थी तुम मुझे शुरू से ही
    क्योंकि तुम्हारे आने से सब कुछ रूक जाता
    ठहर जाता ☔
    मुझे तो ये खिली खिली धूप ही अच्छी लगती
    और ये सारी दुनिया व्यस्त
    सबके साथ भागती दौड़ती सी मैं
    कुछ भी रूकना, खाली बैठना
    बिल्कुल पसंद नहीं था मुझे☔
    पर ये मानसून कुछ अलग है
    इंतजार है मुझे तुम्हारा
    खाली बैठना है मुझे ☔
    और लिखनी है एक कविता
    तुम्हारी बूंदों की छम छम के साथ

  • riyabansal 1w

    Negativity

    Negativity swallows
    every goodness and positivity
    Having a sense of disbelief and fear
    Eliminates all creativity
    It is just like a swamp
    When it starts rulling
    Once that muds in it
    To get out is very challenging

    ©riyabansal