Grid View
List View
Reposts
  • rudramm 1d

    दफ़ना दिया गया मुझे चाँदी की क़ब्र में

    मैं जिसको चाहती थी वो लड़का ग़रीब था

  • rudramm 1d

    आँसुओं को अब आँखों से रिहा किया जाए

    लाज़िम है स्याही को क़लम से ज़ुदा किया जाये

    तुम्हें तुम्हारे हिस्से की खुशियाँ मुबारक़ दोस्त

    मेरी ख़्वाहिश है मेरे हक़ में ग़मों को अदा किया जाए

    ©rudramm

  • rudramm 2d

    कुछ इस तरह मेरी दुनिया तुझसे अलग हो गयी

    रात भर तेरी तस्वीर देखता रहा और सुबह हो गयी


    एक शख़्स के हाँथों मेरी क़िस्मत तय हुई थी

    और फ़िर उसे पाने में मेरी ज़िन्दगी ख़त्म हो गयी


    मैं इसका अफ़सोस करता या फ़िर जश्न मनाता

    एक ख़ुशी की तलाश में ग़मों से दोस्ती हो गयी


    जिस चेहरे को मैं मुद्दतों ख़्वाब में देखता आया

    वो आज मेरे ख़्वाब तोड़ आसमाँ की परी हो गयी

    ©rudramm

  • rudramm 2d

    कोई तो साथी कोई तो हमदर्द दिखाई दे

    एक मुद्दत से बेघर हूँ कोई तो घर दिखाई दे

    ©rudramm

  • rudramm 3d

    इश्क़ की दुनिया में ये सौग़ात आती क्यूँ नहीं

    यार मौत चाहिए मुझे ये मौत आती क्यूँ नहीं


    न लगा गले से मुझे तू और मुझसे प्यार न कर

    मर गया तेरा आशिक़ अब और खिलवाड़ न कर


    इरादे तेरे क़भी नेक न थे हर पल मैं घबराता था

    तेरे साथ रहकर ये दीवाना चैन से सो न पाता था


    सारे ज़ख़्मों को एक कर जब बदन को सजाया था

    ख़ूब अंधेरा था घर में जब उज़ालों से सर टकराया था


    लोग अब पूँछ रहे हैं मिज़ाज़ मेरा, मैं सब बताऊँगा

    पहले ख़ुद को लाश करूँगा फ़िर ये दास्ताँ सुनाऊँगा

    ©rudramm

  • rudramm 4d

    हमसे न पूँछिये सबब इश्क़ की तबाही का

    हमनें पी रखा है ज़हर दिल की स्याही का


    आप अब आये हैं मेरी दुनिया उजड़ने के बाद

    ख़ैर कोई रंज़ नहीं रहा आपसे बिछड़ने के बाद


    अब न कोई सुकूँ न हसरतों का हवस बाक़ी रहा

    मेरी कस्ती डुबोने को एक बहर ही काफ़ी रहा


    जाने क्या सोचकर तेरे इश्क़ में सफ़र जारी रखा

    तेरा हर सितम सह कर भी दिल अपना भारी रखा


    अब तो यार शायद ही किसी के हो सकेंगे हम

    कि इश्क़ की दुनिया से टूट चुका है मेरी चाहतों का भरम

    ©rudramm

  • rudramm 4d

    दिल के ज़ख़्मों को मरहम से परहेज़ है

    चाय में और तो कुछ नहीं मीठा तेज़ है


    इस तूफ़ाँ से बचने को एक ही घर मिला है

    बाक़ी सब बंदोबस्त है बस एक ही सेज़ है


    मुझे ख़बर है आपके पास टूटा हुआ दिल है

    मोहतरमा इस बात का मुझे दिल से खेद है


    ग़लत कहते हैं लोग कि दिल का रोग बुरा है

    हाँथ जोड़ और रब से पूँछ इस रोग में कुछ तो भेद है

    ©rudramm

  • rudramm 5d

    बेवज़ह वो सब बयाँ करने लगा है

    लगता है आग धुआँ करने लगा है


    उसे नया शौक़ चढ़ा है मोहब्बत का

    इसीलिए सबको परेशां करने लगा है


    वो जब होश में आये तो पूँछना उससे

    ऐसा क्या है जो नया करने लगा है


    देखकर उसे अब दिल धड़कता क्यूँ नहीं

    जाने क्या हुआ है इसे, मना करने लगा है


    ख़्याल है आप किसी और गली के मुसाफ़िर हैं

    मेरा दिल आपको अनसुना करने लगा है

    ©rudramm

  • rudramm 1w

    पुराने ज़ख़्म से निज़ात पा रहे हैं हम

    नये ज़ख्म अब गले लगा रहे हैं हम


    मेरे हिस्से में दरिया की प्यास रख देना

    बेवज़ह समँदर से लड़े जा रहे हैं हम


    ख़्वाब में एक सूरत नज़र आयी थी हमें

    तब से उसे पाने को मरे जा रहे हैं हम


    अब के मैख़ानों में यार शराब नहीं मिलती

    जाने कब से शरबत पिये जा रहे हैं हम


    आज़ मिलने को उसने कॉफी हाउस बुलाया है

    देने को उसे एक ग़ुलाब लिये जा रहे हैं हम

    ©rudramm

  • rudramm 1w

    वो चाहती है हम दोनों साथ में पागल हो जायें

    हम इश्क़ के हर एक लम्हात में पागल हो जायें


    वो इतनी सज सँवर कर मिली पहली मर्तबा कि

    हम देखें और पहली मुलाक़ात में पागल हो जायें


    इतना ख़ूबसूरत लहज़ा है उसका बात करने का

    हर बात करने वाले बात बात में पागल हो जायें


    किसी रोज़ हम दोनों मिले क़रीब के जंगल में

    हो बरसात और दोनों बरसात में पागल हो जायें


    बड़े बच बचा के आया हूँ आज़ तुम से मिलने

    करो कुछ ऐसा कि आज़ रात में पागल हो जायें