Grid View
List View
  • s711singh 2w

    मेरे ख्याल

    ख्याल की है बात है कुछ
    मेरे ख्याल की बात है कुछ

    कभी हक़ीक़त से
    कभी हक़ीक़त से रु-ब-रु नहीं कराया अपने ख्याल को
    ख्याल को ख्यालों से ख्यालों में ही मिलाया

    मर मिटने का ख्याल था उस पर
    बस फिर क्या
    खुद को उसके ख्याल में ही मर मिटाया ❤ ।।
    ©s711singh

  • s711singh 7w

    लिखूं कुछ आपको

    सोचता हूँ तुझपर कोई गज़ल लिखूं
    ये जो तेरी सीरत और सुरत का बेजोड़ अक्ष है इस पर कुछ लिखूं

    फिर सोचता हूँ कागज की लाईनों में कैसे तुझे लिखूं
    बात तो तब बनेगी ना जब लोगों के दिलों में तुझे लिखूं ।।
    ©s711singh

  • s711singh 9w

    तालीम

    क्या फर्क है तेरी और मेरी तालीम में ए दोस्त
    तूने उस्तादो से सिखा है
    और मैनें हालातों से ।।
    ©s711singh

  • s711singh 10w

    हसरत

    जब उसकी वफाओं पर यकीन तुमको नहीं
    तो हसरत की निगाहों से गिरा क्यूँ नहीं देते

    मानता हूँ हज़ारो ख्वाईशे होंगी
    तुम उसे अपने ख्याल से बेरिदा क्यूँ नहीं कर देते

    आती होंगी उसकी यादें
    तुम उसकी यादों को अपने दिल दिमाग से गिरा क्यूँ नही देते ।।
    ©s711singh

  • s711singh 13w

    किस्मत एक तवायफ़

    किस्मत एक ऐसी तवायफ़ है
    जो हर किसी के आगे नही नाचती ।।
    ©s711singh

  • s711singh 13w

    इबादत ए इश्क़

    इश्क़ महसूस करना भी एक इबादत से कम नहीं,
    ज़रा बताईये , छू कर खुदा को किसने देखा ??
    ©s711singh

  • s711singh 13w

    किस्मत की हक़ीक़त

    -हक़ीक़त लिखने चला मैं-

    सोचता हूँ अपने ख्वाबों को हक़ीक़त लिखूं , अपनी किस्मत लिखूं
    पर लिखा जो ख्वाब वो ख्वाब हक़ीक़त ना हो सका

    मैं जो अधूरा था एक टुटे तारे की तरह
    में वो मुक्क्मल तारा ना हो सका

    पता नही मेरी किस्मत बुरी है या मैं
    ये फैसला ना हो सका

    मैं हर किसी का हो गया
    पर मेरा कोई ना हो सका ।।
    ©s711singh

  • s711singh 14w

    तेरे दिद का असर

    एक तेरे दिद का असर है
    बाकी सब बेअसर है -2

    मैं जो मर चुका था खुद में कभी
    आज तेरे दिद के बाद मौत भी बेअसर है

    ये जो मुझ पर गम के मौसम थे कभी
    तेरे दिद के बाद सब के सब बेअसर है

    आज सिर्फ तेरे दिद का असर है
    बाकी सब बेअसर है -2 ।।
    ©s711singh

  • s711singh 14w

    मेरी उल्फत

    खुदा करे तुम मेरी उल्फत में कुछ यूँ उलझ जाओ -2
    मैं तुमको दिल में भी सोचूँ तो तुम समझ जाओ
    ©s711singh

  • s711singh 14w

    सांपो की बस्ती

    ये सांपो की बस्ती है जनाब
    ज़रा देख कर चल ए नादान
    यहां का हर शख्स
    बड़े प्यार से डसता है जनाब ।।
    ©s711singh