Grid View
List View
Reposts
  • sanjayanbin20 1d

    दोस्त बन बन के मिले मुझको मिटाने वाले,
    मैने देखे हैं कई रंग बदलने वाले,
    तुमने चुप रहके सितम और भी ढाया मुझपर,
    तुमसे अच्छे हैं मेरे हाल पे हँसने वाले।
    #शब्दसार

  • sanjayanbin20 5d

    बारीकी से, तलाश रहे हो खामियां मुझमें।
    क्या कर लिया है, "इरादा" छोड़ जाने का मुझे?
    #प्रेमसार

  • sanjayanbin20 5d

    मुद्दतों से हूँ तेरे सफ़र में ये जिंदगी
    पल भर ही सही ,पर विराम चाहिए ।।
    थक सा गया हूँ मैं ,दिन के उजालों से
    तन्हा ही सही पर ,अब शाम चाहिए ।।

    - विवेक चतुर्वेदी

  • sanjayanbin20 5d

    सफलता की गिनती यह नहीं कि आप खुद कितने ऊंचे तक उठे हैं बल्कि इसमें कि आप अपने साथ कितने लोगों को लाएँ हैं।

    ~ विल रॉस

  • sanjayanbin20 1w

    हिंदी हमारी मातृभाषा ही नहीं बल्कि हमारी पहचान है, राष्ट्र की अस्मिता व गौरव का प्रतीक है।

    #हिन्दी_दिवस_की_हार्दिक_शुभकामनाएं

  • sanjayanbin20 1w

    दुश्मनी लाख सही, पर ख़त्म न कीजिए रिश्ता।
    दिल मिले या न मिले, पर हाथ मिलाते रहिए।।
    ।।रिश्तों की अहमियत।।
    #प्रेमसार

  • sanjayanbin20 1w

    ।। बहुत महंगी पड़ती है वो मोहब्बत,
    जिसमें खुद को सस्ता कर दिया जाए ।।
    #प्रेमसार

  • sanjayanbin20 1w

    "Poetry is a speaking picture,
    Painting is a silent poetry."

  • sanjayanbin20 1w

    "मौन और एकान्त" एक-दूसरे के सर्वोत्तम मित्र हैं।

  • sanjayanbin20 1w

    बिना शर्तों या बिना उम्मीदों का प्रेम बस किताबों और कहानियों में ख़ूबसूरत लगते हैं,
    लेकिन, वास्तविक जीवन में प्रेम,
    "शर्त, उम्मीद , हक, जलन"
    आदि सब साथ लेकर आता है...!!
    ["कहानी किताबों और जिंदगी की"]