Grid View
List View
  • sanjayblb 29w

    शौख के बगीचे में..
    एक फूल चाहत का भी खिला दूं।
    तुम जो हस दो तो..
    मै गम में भी मुस्कुरा दूं।।
    ©sanjayblb

  • sanjayblb 29w

    गुरूर हुस्न का..
    राज ए दिल खोल नहीं सकती।
    तमन्ना तो बहुत होगी..
    पर अब तुम मुझे अपना बोल नहीं सकती।।

    ©sanjayblb

  • sanjayblb 30w

    Word Prompt:

    Write a 3 word one-liner on Wild

    Read More

    तुम मै हम
    साथ हर शाम चाय और सफर..
    फेरे सारी रस्में शादी..
    सब तो सपने थे।

    ये सब छोड़ो..
    आज जो दूर है वो भी कभी अपने थे ।।

  • sanjayblb 30w

    सपने

    तुम मै हम
    साथ हर शाम चाय और सफर..
    फेरे सारी रस्में शादी..
    सब तो सपने थे।

    ये सब छोड़ो..
    आज जो दूर है
    वो भी तो कभी अपने थे ।।

    ©sanjayblb

  • sanjayblb 40w

    दिल तो छोड़ो अब नजर भी गवारा नहीं
    नसीब वो थे, और बदन हमने संवारा नहीं

    ©sanjayblb

  • sanjayblb 43w

    वो..!

    ना हो काबलियत चाहत की तो ,
    खुद को निखारा करो।
    और उसे "वो" नहीं,
    उसके नाम से पुकारा करो।।

    ©sanjayblb

  • sanjayblb 43w

    Zindgi

    अगर खुशियां तोफा तो गम ही सारे
    ज़िन्दगी के इनाम होते है।

    इश्क़, हुस्न, महबूब और सारी महफ़िल भी
    शायरी(कलम) के गुलाम होते है ।।

    ©sanjayblb

  • sanjayblb 44w

    क्यों !

    मैं तुम्हारा हाल भी तो लिखता हूं ना..!
    तो फिर तुम क्यों कहते हो
    मैं अपने आप बीती लिखता हूं।।

    ©sanjayblb

  • sanjayblb 45w

    अहसास

    शाम,बारिश,चाय
    और तुम...♥️
    अहसास ख्याल पुराने
    और उन्हीं में हम गुम

    ©sanjayblb

  • sanjayblb 45w

    बदनाम मोहब्बत

    यकीन नहीं था तो आजमा के देख लेती
    तुझे मेरी चाहत में जिद और इबादत नहीं झलकती ।
    और सुन..
    सिर्फ "जितने दिन मैंने तेरा इंतज़ार किया है"
    उतने दिन तो आज कल की मोहब्बत नहीं चलती।।

    ©sanjayblb