shubhamgiri

www.instagram.com/svm.giri1/

I don't know everything , if you know please tell me .

Grid View
List View
Reposts
  • shubhamgiri 2w

    जाने आजकल मैं कहां खो जाता हूं ,
    कभी-कभी अपनी ही बातों पर रो जाता हूं
    ©shubhamgiri

  • shubhamgiri 12w

    खामोशियां एहसास है ,
    तुम्हें महसूस होती है क्या ?
    ©shubhamgiri

  • shubhamgiri 13w

    Follow me insta : www.instagram.com/svm.giri1/
    Svm.giri1

    Read More

    माँ

    जन्म की जननी है वो,
    करुणा से भरी है वो,
    जीवन की धारक है वो,
    भावना व एहसास का नाम है वो,
    माँ है वो माँ
    शब्द नहीं है ,न है वो कलम
    जिससे इस शब्द के अर्थो को कर पाऊं विस्तृत,
    माँ शब्द है , लेकिन है नहीं मात्र शब्द,
    है यह करुणा एहसास का भाव ,
    ममता का मम है वो,
    पृथ्वी की दूरी है वो,
    बिना इसके सृष्टि की कल्पना है अधूरी ।
    माँ है वो माँ
    ©shubhamgiri
    Svm

  • shubhamgiri 13w

    मुस्कान

    होंठो की मुस्कान तो अब चली गई यारों,
    थोड़ा नया अंदाज अपना लो,
    सीख लो अब आंखो से मुस्कराना ,
    क्योंकि होंठो की मुस्कान तो मास्क छीन ले बैठा ।
    ©shubhamgiri
    Svm

  • shubhamgiri 14w

    Follow me insta gyz :- svm.giri1
    Thanx for supporting
    #zindegi
    #kyahaizindegi

    Read More

    क्या है जिंदगी ?

    दो पल की है जिंदगी
    समय को साथ लेकर जीवन की डोर पकड़ना है जिंदगी,
    आज बचपन और कल बुढ़ापा है जिंदगी ,
    दुख दर्द में हंस के जीना है जिंदगी ,
    दो शब्द प्यार से बात करना है जिंदगी,
    कल की चिंता में आज को परेशानी में काटना है जिंदगी,
    कुछ बातों को मन से हटा कर रूठे को मनाना है जिंदगी ,
    चलो कुछ बातें मन की करते है,
    चलो रूठो को मनाते चलें कुछ बोल मीठे बोलते चले,
    कुछ रिश्ते नए बनाते चले आओ कुछ लुटाते चले,
    चलो जिंदगी के सफर यूं ही काटते चले ।
    ©shubhamgiri
    Svm

  • shubhamgiri 15w

    By unknown writer

    Read More

    Rip irfan khan

    Sirf insaan galat nahi hote ... waqt bhi galat ho sakta hai...
    By :-- @ irfan khan

  • shubhamgiri 15w

    Follow me insta :- @svm.giri1

    Read More

    जिंदगी की किताब

    जिंदगी की किताब से जुड़ा पन्ना हूँ,
    पलटा तो जा रहा हूं पर पढ़ा नहीं जा रहा हूं ,
    समय की डोर में बन्दा हुआ हूं ,
    दुख सुख को भी झेल रहा हूं,
    मोह माया से लिप्त दुनिया में शांति की खोज कर रहा हूं,
    खुद को खुद में ही खोज रहा हूं ,
    शांति शांति करते हुए भी खुद को शांत नहीं कर पा रहा हूं,
    जिंदगी की किताब से जुड़ा पन्ना हूं ,
    पलटा तो जा रहा हूं पर पढ़ा नहीं जा रहा हूं |
    ©shubhamgiri
    Svm

  • shubhamgiri 15w

    सुकून

    जबरदस्ती की नजदीकियों से ,
    सुकून की दूरियां ही अच्छी है ।
    ©shubhamgiri
    Svm

  • shubhamgiri 15w

    Follow me insta :- @Svm.giri1

    Read More

    स्त्री

    दृढ़ विश्वास लिये जीवन के पथ पर ,
    पथिक रूप में समाज का मान हूँ ।
    चट्टान से खड़ी हूं टूटती बिखरती हुई हूँ,
    फिर भी समाज का अभिमान हूँ ,
    स्वतंत्र हूं ,अनंत से अनादि हूँ ,
    शक्ति के रूप में एक साधक हूँ ,
    हाँ मैं ही जीवन की धारक हूँ ।
    रिश्ते की परछाई से परे में ही
    रिश्तो में विस्तृत हूँ
    माँ के रूप में पत्नी के रूप में बेटी के रूप में
    मैं ही इन रिश्तो की गहराई हूँ ,
    ममता के मम् में आंसुओं की धरा में
    टूटते हुए भी मोम की तरह पिघल जाती हूँ,
    पर टूट नहीं पाती हूँ।
    ख्वाहिशें कैद किए हुए बयां नहीं कर पाती हूँ ,
    पर एहसास मैं ही हूं ।
    हाँ मैं ही अर्थों में विस्तृत हूँ ,
    हाँ मै ही रिश्तो का का रूप हूँ
    हाँ मैं ही स्त्री स्वरूप हूँ ।
    ©shubhamgiri
    Svm

  • shubhamgiri 16w

    Plz support me gyz
    Insta I'd :- @Svm.giri1

    Read More

    जिंदगी तू ही बता

    ए जिंदगी तू ही बता क्या हो गया है ,
    दिन का उजाला होकर भी घनघोर अंधेरा छा गया है,
    रूठकर मेरे अपने ही मुझसे मेरे अपने ही खो गए हैं ,
    बस अब खो गई है खुशियां और बस शरीर रह गया ,
    जिंदगी कुछ तो बता आखिर ये क्या हो गया है
    हे जिंदगी तू ही बता यह क्या हो गया है ।
    भटकते हुए रास्तों में कांटो ने रास्ता बना लिया है
    पांव के छालों ने और जिंदगी के दर्द ने रास्तों से भटका लिया है
    ए जिंदगी तू ही बता यह क्या हो गया है ।
    ©shubhamgiri
    Svm