sifaarish

safar khoobsurat h manjil se bhi

Grid View
List View
Reposts
  • sifaarish 1w

    बदनाम

    ये कैसी कश्मकश है
    ना जाने कहां जा रहे हैं
    अजीब सी दुनिया मे खो गये है ।
    खुद से ही शायद कफा है
    जो कल तक थे जिगरी यार
    आज वही अनजान हो गये है।
    कैसा ये दौर है कफिरों का
    वफा से हर रिश्ता निभाकर भी
    बेवफाओं की तरह बदनाम हो गये हैं।

    ©sifaarish

  • sifaarish 2w

    Dhoka

    Inayat khuda ki samjh bethe use
    Faqat usi k khayalo se naata rakha

    Jhoota bola har baar usne kuch ese
    Uski har baat ko khuda se upar rakha

    Wo inkaar na sake
    Ham kbhi ijhaar na kar sake
    Tabhi shayad usne hamare masoom zazbaaton ko is kadar dhoke me rakha

    ©sifaarish

  • sifaarish 3w

    इल्तजा

    आज बहुत तन्हाई है
    फिर एक दफा याद तेरी आई है

    कभी मोहब्बत का तेरी था दिल ये मुसाफिर
    अलहदा होकर तुझसे लिख रहे बस तेरी जुदाई है

    इस बेचैन आलम मे बस है इल्तजा इतनी
    मोहब्बत तेरी भले ना हो नसीब में मेरे
    साथ रहे तू हर पल मेरे जैसे रब की परछाई है

    ©sifaarish

  • sifaarish 4w

    नई शुरुआत

    चलो कुछ नई सी एक शुरुआत की जाये
    जो कल तक हुआ उसे अब भुलाया जाये

    बहुत जी लिये दूसरों की खातिर
    अब खुद की खातिर भी जीना सीखा जाये

    खुद में छुपे बच्चे को बाहर लाकर
    कभी खुद के साथ भी वक़्त बिताया जाये

    जो दोस्त है तुमसे रूठ गये
    उनको फिरसे गले लगाया जाये

    क्या रखा है मोहब्बत के झूठे अफसानो में
    अब तो बस खुद पर ही ऐतबार किया जाये

    चलो कुछ नयी सी एक शुरुआत की जाये

    ©sifaarish

  • sifaarish 4w

    Tanhai

    Mahak uthti h tanhai
    Jab khusbu tumhari mil jaati h

    Phle tum the paas kitne
    Aaj wahi yaadein beintaha satati h

    Kaho Kese bhuladu tumhe
    Tumhi ho wo jiske naam par
    ye jindagi mitadi h

    ©sifaarish

  • sifaarish 4w

    Namanjoor

    Bichadnne se jara phle.......
    kaash wo ik dafa soch lete

    Kese jienge unke bina ham
    Unhone kabhi socha hi nii

    Bina unke jindagi namumkin h
    ye unhone samjha hi nii

    Ab jab wo hamse door h........
    Katra katra mar rahe h ham kuki
    unke bina jeena hame manjoor hi nii

    ©sifaarish

  • sifaarish 4w

    नई शुरुआत

    इक हसीन सुबह आई है
    अपने साथ नए नए ख्वाब लायी है।

    मै अब भूला रही हूं तुझे
    मेरी जिन्दगी मे बस नई रोशनी छाई है।

    याद ना आना अब कभी तन्हाई में
    क्योंकि मेरी किस्मत मे लिखी बस तेरी जुदाई है।

    ©sifaarish

  • sifaarish 5w

    बिछड़ जाते है वो लोग सफर में ही
    जिनके साथ मंजिल तक पहुंचने का ख्वाब हो
    ©sifaarish

  • sifaarish 5w

    तू ही है जिसे हर पल खुद से भी ज्यादा चाहा है
    एक तू ही है जिसने हर बार हमे ठुकराया है
    ©sifaarish

  • sifaarish 5w

    #mirakee #mirakeeworld #sadshayari #love #writersnetwork #poetry
    @yuvrajkhatik @asraar

    Kabhi khud ki khusiyon ki kadar karna v sikhiye
    Aapko dukhi rakhne k liye ye duniya kaafi h

    Read More

    Waasta

    क्या मतलब रखना उन लोगों से
    जिनसे अब कोई वास्ता ही नहीं

    क्या रुख करना उस बेगानी राह का
    जिसकी तरफ देखने की अब वजह नहीं

    एक वक़्त दीवाने थे तेरी तबस्सुम के
    अब तो तेरे दीदर की भी चाह नहीं

    ©sifaarish