sifaarish

safar khoobsurat h manjil se bhi

Grid View
List View
Reposts
  • sifaarish 6w

    कोई उम्मीद सी बाकी है
    गुजरते हुए हर मुसाफिर सा
    वो अनजान हो गया
    राहों में बस कुछ दूर ही साथ चले थे
    उस रास्ते की हर याद
    जेहन मे आज भी बाकी है
    क्या वो दूरियां बेवजह थी
    या कोई वजह थी
    तेरी यूं राहों में छोड़ जाने की
    ©sifaarish

  • sifaarish 6w

    उसने भी मुझे खत लिखा होगा, अश्क़ों से तन्हाई में...
    आँखों का काज़ल भी फैला होगा उनकी, मोहब्बत़ की सुनवाई में...
    जज्बात मेरे भी बिखर गये , उसकी बेबस जुदाई में
    क्या खूब लिखा है किसी ने
    मुसलसल अश्क ही मिलते हैं मोहब्बत की गहराई में
    ©sifaarish

  • sifaarish 6w

    एक छोटा सा तोहफा मांगा था उससे
    जिन्दगी भर के साथ का
    मगर उसे कुछ देना आता कहां था
    ©sifaarish

  • sifaarish 6w

    खामोश सा है सब कुछ
    एक तेरी नामौजूदगी है
    जो आज भी शोर करती है
    ©sifaarish

  • sifaarish 6w

    अश्क तो यूं ही झलक जाते हैं
    शायद तेरी कमी इन्हे भी मुनासिब नहीं
    क्या ढूँढ़ती रह्ती हैं ये आंखें
    तेरे सिवा इन्हें किसी की इबादत नहीं
    ©sifaarish

  • sifaarish 6w

    ❤❤

    तुझसे मिलना तो था
    बातें कुछ जो अधूरी थीं
    उन्हें पूरा करना तो था

    सवाल तो तुझसे हजार हैं
    मगर अब जबाब की इल्तजा नहीं

    मुसाफिर तो आज भी तेरे सहर के हैं
    खैर अब तुझसे मिलने की ख्वाहिश नहीं

    तू यादों से पूरा मिटा नहीं
    तेरी कमी आज भी बाकी है

    मुस्करा कर चले जाएंगे तेरी राहों से
    बस तेरा एक बार कहना काफी है
    ©sifaarish

  • sifaarish 6w

    Ijhaar

    Kiya tha ijhaar
    barson ki mohabbat ka jisse
    Socha na tha
    Usi k dil me hamare liye
    sabse jyada nafrat hogi
    Yaa yun kahen
    Chaha tha jise khud se v jyada
    Ummeed na thi kbhi
    Use hamse is kadar narajgi hogi
    Kher kusoor sara is dil ka hi tha
    Jo use itni ahamiyat thi
    Jiske shayad wo kabil hi na tha
    ©sifaarish

  • sifaarish 8w

    Forever

    Memories of the day
    When you departed
    Make me remind of the day
    When we together started

    I couldn't tell
    How much i care for you

    I wish, i could tell
    How much i feel for you

    Still there are memories of time
    When we lived each moment
    Though, time seperated us
    & life now has been so dormant

    I always feel same for you
    That i did at previous
    But condtions don't remain same
    Eveything has turned so mysterious

    Always hope for the day
    When we will be together
    Like a sunflower's need for sun
    I need you forever

    ©sifaarish

  • sifaarish 9w

    शब्द

    अब शब्द मुझे लिखते हैं
    शायद ये मुझसे ज्यादा मुझे समझते हैं
    मेरी तन्हाईयों में अक्सर
    यही मेरे साथी बन जाते हैं
    थाम के हाथ मेरा, मुझे सहलाते हैं।

    लोगों की तरह बेवफा नहीं होते ये शब्द
    चाहे वक़्त कैसा भी हो
    हर वक़्त में इस दिल से बोझ चुराते हैं।

    इन शब्दों पर चल रही है
    हमारी ये छोटी सी दुनिया
    वही दुनिया जिसे लोग बर्बाद कर जाते हैं।

    ©sifaarish

  • sifaarish 10w

    Yaad aa rha h wo waqt

    याद आ रहा है वो वक़्त
    जब दूरियां ना थीं दरमियां
    कैसे गैरों के लिये
    तुमने अपनों को भुलाया
    कैसे अपनी एक खुशी के लिये
    तुमने किसी का दिल दुखया

    याद आ रहा है वो वक़्त
    जब तुम्हारे वजूद में
    हम सुकून तलाशा करते थे
    कैसे अपनी बातों से तुमने
    हमें अपना बनाया
    क्या यूं अपना बनाना जरूरी था
    क्या यूं छोड़ जाना जरूरी था
    बेहद याद आ रहा है वो वक़्त
    जब दूरियां ना थीं दरमियां
    ©sifaarish