trashoutofme

hum the likhe deewar pe baarish huyi aur dhul gaye

Grid View
List View
Reposts
  • trashoutofme 4w

    एक टुकड़ा धूप का अंदर-अंदर नम सा है

    Read More

    eh

    बेकदरी की कदर सी
    .
    सोंधे पन की महक सी
    .
    खुले आसमान में बेवजह बादलों सी
    .
    पतझड़ी मौसम की एक नई चाहत सी
    .
    खिड़कियों से आती एक सुबह की किरण सी
    .
    बारिश के बूंद के मिट्टी की खुशबू सी
    .
    भरे दिन में रात में आते सपनों सी
    .
    बेरुखी की एक नई पहल सी
    .
    किस्से कहानियों की एक किताब सी
    .
    संगीत के हर बोल के एक लफ्ज़ सी
    .
    ढलते शाम में नदी के किनारे ठहर जाने सी
    .
    पूर्णिमा की रात में बहती हवा की आवाज सी
    .
    बचपने के बर्फ के गोलो से दिल बहलाने सी
    .
    कटी पतंग की डोर के उलजते मांझे सी
    .
    रंगों की भरी पिचकारियों के इन्द्रधनुष सी
    .
    अनगिनत कहानी और कविताओं के पंक्तियों सी

    ©trashoutofme

  • trashoutofme 8w

    brisky air strikes the fleshy skin
    when landed
    breathing rhythm starts
    when accelerated
    entering in the world of unknown
    where myriad people
    watching you
    some exclaimed
    some ignored
    passing by beautiful landscapes
    where sound of hitting ground
    adding to the EDM
    moving along with every element
    when they seemed stagnant
    time passing by covering miles
    when ray of light hit
    my way with a hope
    mind whispering
    made a story to stop
    where heart wants more
    got wetted
    in the rain of sweat
    when everything
    burning inside me
    danced with thumping beats of heart

    when I lost myself

    Read More

    eh

    an escape run

    ©trashoutofme

  • trashoutofme 8w

    hold me higher where I can liberate myself

    Read More

    eh

    don't let your demons to fade away
    mind full of crippling thoughts going away
    empower self to cross the burden of today
    countless mouths making another way

    ©trashoutofme

  • trashoutofme 9w

    वक़्त की साजिशे

    Read More

    eh

    वक्त ना ही बुरा है
    ना ही अच्छा
    बस ये तो इंसान की फितरत है
    जो अपनों को भूल कर
    गेरो से दिल लगा बैठता है
    ©trashoutofme

  • trashoutofme 9w

    अरे जनाब गोर फरमाइएगा

    Read More

    eh

    क्या कोई टूटा है
    क्या कोई जुड़ा है
    ये तो बस एक नजरिया है
    किसी को रास्ता लगता है
    तो किसी को मंज़िल
    ©trashoutofme

  • trashoutofme 10w

    a bonfire of diminishing love

    Read More

    eh

    ये बुझती हुई शमा की चमकती किरणे ठीक इश्क
    की तरह है पर इस कमबख्त बहती हवा को
    कौन समझाए जो इतनी शिद्दत से
    हर बार जलाने को बेताब है
    मानो एक पल के लिए
    रोशनी तेज हो भी
    गई पर अगले
    पल सिर्फ
    धुंआ
    है

    ©trashoutofme

  • trashoutofme 10w

    day rises up
    but sleepy eyes await for your texts
    nevertheless flooded with unusual notifications
    and lately realised there is a void

    after consumption of caffeine
    felt the much needed spark
    and here comes the glitchy thought
    of absorb more and less radiate.

    surprisingly this annoying sound
    of time bomb rush into my adrenaline
    and brought me to the shower of love
    covered myself with clothes of responsibilities

    finally landed at the place of
    chuckling sounds of kids, listening the
    rhythmic songs of street, chirping people
    and headed my way towards the unknown.

    Read More

    eh

    a morning in this cosmic life

    ©trashoutofme

  • trashoutofme 10w

    कुछ लिबास में
    मैं इस कदर लिपटा था
    कि अपने आपको लिबास
    से पहचानने लगा था

    कुछ रंगों की रंगीनियत
    तो देखो कभी सोचता हूं
    अपने आप को उन रंगों के नाम कर दूं

    कुछ ये नम सी सुबह
    और ये बेहकती सी शाम
    और ये मेरे बोल आज भी
    इस बात की गवाही देती हो
    ना हो पर आज भी
    कुछ तो कशिश बची है इस दिल में

    Read More

    eh

    कुछ में अधूरा था
    कुछ तुम पूरी

    ©trashoutofme

  • trashoutofme 10w

    when you just walk into this adult age

    Read More

    eh

    this blooming age of
    desire and compassion
    how knowingly you are
    into a aesthetic fashion

    this bold age of
    camaraderie and commitment
    how you end up
    in losing someone's trust

    this social age of
    strangers and their anonymity
    how you loose up
    yourself and lost the destiny

    this myriad age of
    people and their memories
    how you become
    known unknown & never lasts

    ©trashoutofme

  • trashoutofme 10w

    a painting of you and me

    Read More

    eh

    I painted you in my sky
    with all the colours of joy

    you see me through that painting
    like a moon sees the star

    every line which I drew was a
    string attached to you

    every curve of drawing
    is a rainbow curved in delight

    every shade which I drew
    is the beauty in the flaws.

    ©trashoutofme