tuned_strings

www.facebook.com

extremely obsessed with Gray shade!! looking for that silver line in dark cloud which is hard to find!! mostly kind sometimes rebellion!!

Grid View
List View
  • tuned_strings 5h

    दफ़्तर

    बेख़बर सा था हर खबर से मैं, उस दहलीज़ से गुज़र के हर खबर का मिज़ाज जाना !
    अपने हुनर से कमाई एक मेस़ मैंने, दफ्तर में हुनर का अंदाज़ जाना !!

    बचपन में शरारतों का पिटारा था मैं, बड़े पन में सियासत और आवाम़ का सारा हाल जाना !
    अपनी तालीम पर किया हर रोज़ नाज़ मैंने, दफ्तर को तालीम का इम्तिहान माना !!

    सुरों से कच्चा और लफ्जों से अनजान था मैं, उम्र और हालात़ से नज्मों का हर आलाप जाना !
    फ़र्ज में खुद को मज़रूफ किया मैंने, दफ्तर की बोरियत को सुरों का मैदान माना !!

    वजूद और रुतबें से मिलो दूर था मैं, होश संभालते ही दुनिया में इनका कारोबाऱ जाना !
    रोज़ी को अपना मेहनताना माना मैंने, दफ्तर में दुनिया का हर नकाब जाना !!
    ©tuned_strings

  • tuned_strings 4d

    Fading

    Sketching showed me an important moral of life which is...

    If you've a task to paint a picture with various fine shades of magnificent colors, then it's quite easier for you to look onto the references and spread the colors on every white space without keeping the smudge factor of the color in mind as it got composed with the picture sooner or later.

    But what if you only have a pencil eraser and sharpener for the same task??

    Now, you've to keep yourself educated regarding each feature that is negotiable in above condition!!

    And most importantly, you need to have an impeccable skillset of shading..

    When time makes your life faded like a uncolored picture, be familiar with a sentence that

    "When you're good at shading in a figure, you don't need any colour shade for perfection".
    ©tuned_strings

  • tuned_strings 1w

    Trains

    When mithoon said in his song that,

    "Zindagi ne zindagi bhar ghum diye
    Jitney bhi mausam diye sab nam diye"

    I felt as if it was meant for me only,

    As whenever I walked into a train all am tryna do is, keeping my whole character aside and behave like an entirely different guy with all those small mad activities which genuinely makes me happy that unluckily I couldn't execute at my workstations...

    A Train made me realize that there are such places that allows you to act like one you've supposed yourself to look alike.

    There are a lot places that brings tears in eyes and sorrow in heart, but in the meantime there are such places too that allows you to ignore all those inhibitions.

    Happy journey❤❤

    ©tuned_strings

  • tuned_strings 1w

    मौहऱ

    किसी दिलचस्प सी बाज़ी में, अंजाम को तलाशता आखरी दावं हूँ !
    चल जाऊं तो फतेह, रुक जाऊं तो शिकस्त का फरमान हूँ !!

    !! फैसलों में दिखते हैं निशान मेरे, मौहर हूं जज़्बातो से अनजान हूँ !!

    सारे साफ़ सवालों में, ईल्म़ो को टटोलता एक पेचीदा सा जवाब हूँ !
    सुलझ जाऊं तो नुस्खा, उलझ जाऊं तो तिलिस्म सा गहरा राज हूँ !!

    !! फैसलों में दिखते हैं निशान मेरे, मौहर हूं जज़्बातो से अनजान हूँ !!

    जरूरतों की जंग में, हसरतों का हिसाब करता कोई सियासी कागज़ात हूँ !
    आवाम़ की खिद़मत करते, हुक्मरानों की आवाज़ और तामिलियत का पैगाम़ हूँ !!

    !! फैसलों में दिखते हैं निशान मेरे, मौहर हूं जज़्बातो से अनजान हूँ !!

    अर्जीं और खुदगर्जीं में, ज़मीर को परखता एक अलग ही एहसास हूँ !
    शर्तें मंजूर हुई तो दुआ, दगाबाज़ी हुई तो कोई बुरा सा ख्वाब हूँ !!

    !! फैसलों में दिखते हैं निशान मेरे, मौहर हूं जज़्बातो से अनजान हूँ !!
    ©tuned_strings

  • tuned_strings 1w

    Feeling lucky and humbled at the same time

    एक माँ की आठ सालों की गुहाऱ पुरी हो गयी !
    एक बेटी की तड़पाती रूह़ को सुकून और रिहायत मिल गयी !
    एक लड़की जो क़ानूनी दस्तावेज़ो की दम पर खुद से और ज़माने से लड़ी, उसकी ईस जंग पर फतह पर मौहर लग गई !

    मेरी मौजुदगी कहीं नहीं थी, लेकिन आज सिर्फ़ मेरी नहीं सारे मुल्क की फरियाद पूरी हो गयी..

    From my heart and soul,
    Thank you supreme court for this birthday present!!
    ©tuned_strings

  • tuned_strings 2w

    Run along the edges

    When we lose
    One thing always wins
    And that is "Fear to lose"

    When we succeed
    One thing always derailed
    And that too is "Fear to lose"

    Now it's all up to you either you deal with your inhibitions by dominance or by scarcity.

    Always allocate yourself along the edges of this "dom-scar" sphere, and always keep moving as it stuns the inhibitors.
    ©tuned_strings

  • tuned_strings 2w

    फ़िलहाल

    बेलगाम सी बह रही हैं किसी झील में, नदियों से निकलने वाली लहर !
    फ़िलहाल तो अंदर तक साफ हैं, पर सफर में धूल और मैलापन बोहोत हैं !!

    दऱ-ब-दऱ फिर रही हैं फ़िजाऔ में, ठंडे बादलों की कोई साँवली सी लहर !
    फ़िलहाल तो मौसम साफ हैं, पर शहरों में धुएँ और बारिश की दरकार बोहोत हैं !!

    हवाऔं सी बह रही हैं आशियानों में, साज़िशो की नासाज़ सी कोई पहर !
    फ़िलहाल तो इरादें साफ हैं, पर दिलों में नफें और नुक्सान की तस्वीरें बोहोत हैं !!

    कसक सी बह रही हैं शागिर्दों में, उस्तादों की कोई नमकीन सी बहस !
    फ़िलहाल तो मन साफ हैं, पर ज़हन में सही और गलत की सज़ाए बोहोत हैं !!
    ©tuned_strings

  • tuned_strings 3w

    रंग और रंगत

    हर रंग का अपना अनोखा आगाज़ है, दूसरे रंग के साथ अलग यारम है और हमेशा से इतिहास में एक अलग पहचान है, लेकिन साल में एक दिन या यूं कहें चंद पलों के लिए सारे रंगों को खुली आजादी होती है अपने सभी दायरों को दरकनार रखकर, पानी के छोटे से सैलाब में मुलाकात करने की, हमसफर बनने की, उसी एक दिन को बुजुर्गों ने होली का नाम दिया है.

    माहौल और वक्त का भी एक अजीब याराना है, वक्त के किस हिस्से में माहौल बदल जाते हैं यह वक्त को भी पता नहीं चलता, एक वक्त था जब लोग कई दिनों की गहमागहमी को भुलाकर एक दूसरे को रंग लगाते थे और गले मिलकर गिले शिकवे भुला देते थे, वह दौर था जब रिवाजों की रंगत काफी खुशनुमा और पाक हुआ करती थी.

    फिर वक्त के किसी हिस्से में माहौल बदला, अब लोगों के मन में त्योहारों को लेकर इरादे बदले., अब लोगों ने रंग लगाने के बहाने की आड़ में, पीठ में खंजर उतारना शुरू कर दिया, यह भी एक दौर था जिसमें रिवाजों में रंगत तो थी, लेकिन उनकी तासीऱ नापाक हो गई थी.

    अब बात करते हैं उस दौर की जो अभी हाल फिलहाल में चल रहा है, और बात भी हम सिर्फ इसी वजह से कर रहे हैं क्योंकि अब सिर्फ बातें ही रह गई हैं, रंग और उनकी रंगत तो अब सिर्फ छोटे-छोटे गांव में पेड़ के पत्तों की तरह तंग गलियों में जमीनों पर फिसल रही है. शहरों में तो रंग से भरा चेहरा तस्वीरों में और उनकी रंगत चाय पर साथ होने वाली पुरानी बातों में रह गई है., अब रंग लगाने का वक्त तो है, पर गिले शिकवे मिटाने का नहीं.

    होली का मजा तब ही है जब रंगारंग तालमेल में हो हर दौर को समझा और फिर होली मनाएं!!

    !!होली की हार्दिक शुभकामनाएं!!
    ©tuned_strings

  • tuned_strings 4w

    Tone

    Golden rule of psychology says,

    If some 'guy' yells at you over a specific topic and you're explaining him in a polite intonation, then he can yell more loudly keeping the morality of an argument aside.

    Synchronize your tone in accordance with situation aroused.

    Kisi line ko chota karne ke do tarike hai.,

    pehla usse salike se mitaana and that is a noble cause in moral point of view but an act of stupidity in a warzone.

    Dusra badi lakeer kheech kar mudda jeet lena and that is an act of stupidity for moral point of view and a noble cause in a warzone.

    Altogether go through it, It makes sense
    ©tuned_strings

  • tuned_strings 4w

    Kungfu panda

    It's been a while since I've this in my subconscious mind, and whenever I'd a collectively sufficient amount of pendowning theories, I found myself somewhere in the middle of something.

    So now without any time lapse, I am gonna Express my thoughts about an animated character called 'kungfu panda'.

    For others, it's just an animal with lack of agility and a great sense of humor who further finds himself in an entirely different world.

    But if you look onto his way to handle the consequences, you can learn a lot from him, for instance he used to cook noodles at his father's hawkers point., And suddenly in the savage of humanity, he went to the martial arts training center where he finds himself the most uneducated guy in the stream and found himself all alone with his cooking skills.

    Then what he'd done can only be executed by a "soul warrior", Performing the ultimate principle of kungfu and that is " Kungfu is not about doing some unpredictable stunt, actually it's about observing the pattern of activities happening around in nature and then transforming it into an physical exercise". And that's how he defeated the disputed prisoner by using his freestyle kungfu and a masterstroke.

    Be like kungfu panda, Be an ace observer and be yourself.
    ©tuned_strings