Grid View
List View
Reposts
  • unremained_words 8h

    Aaj dil fir un galiyon me jana chahta hai
    Jaha kabhi guzara tha bachpan
    Wo nanhi shaitaniya, so pyari atkheliyan
    Fir se dohrana chahta hai man

    Har subah ankhe khulti thi dosto ki aawaz se
    Har shaam khubsurat hoti naye saaz se
    Din bhar angan mehka karta tha
    Rasoi me ban rahe pakwaan khas se
    ©unremained_words

  • unremained_words 2w

    Meri dil ko kuchh yu khamosh kar diya tune
    Ab to dhadkan ki bhi aawaz nahi aati

    Dard ankho me sama gaya is had tak
    Ashqon me siskiyon ki bhi aawaz nahi aati
    ©unremained_words

  • unremained_words 3w

    Ek khwahish teri na puri kar sake
    Ye kaisi mohabbat chuni tune
    ©unremained_words

  • unremained_words 3w

    Tay kar liya hai ab ye
    Zindagi bhi khushi bhi
    Sab apne waste rahenge
    Gumo ke saye chahe kitne bhi aaye
    Waqt ki har mushkil haste haste sahenge
    ©unremained_words

  • unremained_words 4w

    ajnabi nahi lagta mujhko ab wo dost
    Jise kabhi dekha nahi , jana nahi

    Par fir bhi baten karte hai usase
    Jisase kabhi kuchh kaha nahi, suna nahi
    ©unremained_words

  • unremained_words 5w

    ना कर खुदको यूँ बरबाद मेरी हसरत में
    मैंने मोहब्बत में दुनिया उजड़ते देखी है ।
    वादों के टूटने से पहले खुद टूट जाते हैं
    मैंने आशिकी में किनारे पर कश्तियाँ डूबते देखी हैं ।
    ©unremained_words

  • unremained_words 6w

    Dhundhla si gayi hai tasveer jo dil me thi
    Shayad usne hi ise toda hoga
    ©unremained_words

  • unremained_words 6w

    चेहरा है शांत पर मन में तूफ़ान कई हैं
    पलकें है झुकीं पर आँखों में सवाल कई हैं

    उलझती जाती है जिंदगी अपने और अपनों के बीच
    रिश्तों का लिहाज़ किया वरना करने को बवाल कई हैं
    ©unremained_words

  • unremained_words 6w

    जिस्मों की मोहब्बत के हैं मायने यहाँ
    रूहानी इश्क़ नहीं आता नज़र

    वो मोहब्बत, मोहब्बत नही साहब
    जो जिस्मों पर करे बसर
    ©unremained_words

  • unremained_words 7w

    खुशनुमा था हमारा भी जहान
    जब तुम हमारे हुआ करते थे

    मुस्कान होती थी होटों पर और हँसी में खनक होती थी
    जब तुम हमारे हुआ करते थे

    आँखों में सपने तुम्हारे और अनोखी चमक होती थी
    जब तुम हमारे हुआ करते थे ।
    ©unremained_words