Grid View
List View
  • urvashi_s 4w

    Who are you?

    Who are you?
    A lost soul,
    Wandering here and there
    Or a dream,
    Which turns into a nightmare?
    Are you a shadow,
    That follows me everywhere.
    Or a whiff that disappears?

    Your mere existence
    Makes me question everything.
    Are you a doubt,
    That I am chasing?
    Or am I chasing myself?
    Restlessly looking for something,
    In my chaotic mind that might help!

    So who are you?
    Are you somebody,
    Or are you me?
    Are you even present,
    Or are you my creation
    That exists in my imagination?
    Trying to speak to me
    Trying to take me out of reality!

    You maybe anything,
    You maybe nothing.
    But it just keeps me wondering
    "Who are you?"
    And the only thing I can tell is
    I have no cue.
    ©urvashi_s

  • urvashi_s 8w

    दिल की बात

    अक्सर दिल लूटने वाले,
    दिल तोड़ कर चले जाते हैं।
    जिस दिल से वो खुशियाँ फैलाते हैं,
    उस दिल में छुपे गम को
    हम कहाँ ही देख पाते हैं।

    मुस्कराते चेहरे हैं,
    पर इनमें,
    राज गेहरे हैं।
    दिख रहा है जो जैसा,
    वो अक्सर वैसा नहीं होता है।
    जो तालाब शांत दिखे,
    जरुरी नहीं,
    वो अंदर से भी शांत होता है।

    खुश रहने के लिए,
    सभी ढूंढ रहे हैं बहाने।
    और गम के आंसू को
    लग गए हैं छुपाने।
    आसान नहीं हैं रास्ते,
    हर तरफ अंधेरा दिखता है;
    गुम न हो जायें कभी,
    यह डर हमेशा बना रहेता है।
    सभी के साथ होकर भी,
    अकेला सा लगता है।

    तनहा सा सफर है ये;
    इस सफर में
    खुद से खुद ही लड़ रहे हैं।
    चलते चलते बाँट रहे खुशियाँ,
    और अपने ही गम बाँटने से डर रहे हैं!
    ©उर्वशी शर्मा

  • urvashi_s 11w

    My Friend

    Today,
    I lost a friend.
    A friend who was dear,indeed.
    This long ride together we journeyed.
    But time plays its own role;
    He became very old.
    With age he turned blind and deaf;
    But,
    Our love for him never suppressed.

    When we found him
    A little pup was he,
    And now after twelve years
    We lost him,
    Somewhere,
    In his eternal deep sleep.

    He was my father's best friend
    Always following him wherever he went.
    I remember,
    He used to sit in front of house;
    Waiting for my father to come out.
    And whenever he saw him,
    His ecstasy was beyond imagination.
    And would throw tantrums
    To gain his attention.
    Wagged his tail to and fro,
    What's for food
    Always keen to know.

    He was a very good friend.
    And losing him,
    Has left me in immense pain.
    But,
    At the time of his death,
    He himself was in a so much pain.
    That his plight I could not explain.
    He was breathing heavily
    And was very restless,
    Tears were rolling down his eyes
    And soon he became breathless.
    We prayed for his peace;
    And soon,
    He embraced his death;
    And went into a deep rest.
    ©urvashi_s

  • urvashi_s 11w

    वर्षा

    चहचहा उठीं सारी पक्षियाँ,
    सुन,
    बादलों के गरजने की शोर।
    उड़ चलीं नीले गगन में,
    अपने पंखों को खोल।
    नाच उठे मोर सारे;
    कोयल भी लगी,
    सुनाने अपनी मिठी बोल।
    जब सुनी,
    बादलों की शोर।

    मच गया कोलाहल।
    जैसे खुशी का छाया मंजर;
    धरती भी महक उठी,
    खिलखिला उठे बेजान सरोवर।
    पेड़ पौधे भी सब मुस्कुरा उठे;
    स्वागत के लिए हुए सब तैयार,
    जैसे ही आई वर्षा की बाहार।

    वर्षा आई, या आया कोई रिश्तेदार!
    सभी कर रहे थे उत्साह से इंतजार।
    खिड़कियां खुली,
    खुले घर के सारे द्वार।
    बच्चे-बूढ़े सब नाच उठे,
    जैसे ही आई वर्षा की बाहार।

    वर्षा का,
    न कोई रूप न कोई रंग।
    फिर भी कर जाती है मन को पावन।
    अपने साथ,
    लेकर है आती जैसे कोई त्योहार;
    मोहित हो उठता है पूरा संसार।
    कण-कण को है प्रफुल्लित कर जाती,
    जब आती है इसकी बाहार।
    ©urvashi_s

  • urvashi_s 14w

    बंजारा हूँ

    बंजारा हूँ, थोड़ा आवारा हूँ;
    पर मन का हारा नहीं।
    दर-बदर भटक रहा,
    पनाह की तलाश में;
    पर जो सूकुन भटकने में
    वो कहाँ,
    कहीं पहुंचने की आस में।

    बंजारा हूँ, थोड़ा आवारा हूँ;
    पर किस्मत का मारा नहीं।
    जिंदगी जीना सीखा है;
    जिंदगी से मैं हारा नहीं।

    बंजारा हूँ, थोड़ा आवारा हूँ;
    पर बेचारा नहीं।
    उल्फत कर बैठी है,
    अपने ही अंदाज से;
    अब किसी की चाह नहीं।

    राहगीर बनके निकला था
    अपनी राह तराशने;
    पर बनके बंजारा, थोड़ा आवारा
    अपने ही धुन पर लगा नाचने।
    मंजिल की अब कोई परवाह नहीं,
    थोड़ा लापरवाह बनके जीना चाहता हूं।
    इधर-उधर भटकते-भटकते,
    कहीं गुम हो जाना चाहता हूँ।
    ©urvashi_s

  • urvashi_s 22w

    Pride

    Who that is down needs fear no fall.
    There is no reason to stand tall.
    Flying high and remaining on the ground,
    Is no pun my friend.
    It's the irony that is sound.

    Even the eagle returns to it's eyrie,
    Even the lion gets weary.
    You are just a dancing puppet,
    In the hands of life.
    You will be a mere body
    The day you die.

    The table may turn any day round.
    You will be left alone;
    And none to surround.
    The days spent in happiness
    Will turn into sorrow.
    Thou never know,
    What's in store for tomorrow.

    None saved from its befall,
    Pride has always taken its toll.
    And how much you try,
    In the end,
    You will be left with nothing at all.
    ©urvashi_s

  • urvashi_s 24w

    माँ

    माँ,
    तेरी अक्सर याद सताती है।
    तेरे बिना नींद नहीं आती है।
    तू थी,
    तो एक सहारा था।
    इस डूबती हुई कश्ती का,
    तू ही तो एक किनारा था।

    तेरे तो डाँट में भी प्यार था।
    अब तो दूसरों के प्यार में भी,
    मतलब दिखता है।
    माँ, तेरे जैसा
    इस दुनिया में कोई नहीं मिलता है।

    बहुत सताया, बहुत रुलाया।
    एक-एक पल,
    तुझे तड़पाया।
    पर जब मन उदास होता है,
    तेरी ही याद आती है।
    माँ, तेरे बिना
    जिंदगी सूनी हो जाती है।

    फिर से,
    एक बार गोद में सुला ले।
    बस एक बार,
    फिर मुझे अपने सीने से लगा ले।
    अब नहीं रहा जाता मुझसे,
    माँ;बस एक बार,
    अपने पास बुला ले।
    ©urvashi_s

  • urvashi_s 24w

    बचपन

    ये बचपन न छीनो इनसे,
    दुबारा लौट कर न आएगा।
    जवानी के तले,
    सबको दबना है एक दिन।
    अभी से क्यों दबाना है!
    थोड़ा खुल के जी लेने दो
    इन्हें यह पल;
    यह समय को लौटकर
    फिर थोड़ी आना है।

    इनकी नन्ही किलकारियों से,
    आँगन गूंज उठने दो।
    इनकी मधुर बोल से,
    दिल प्रफुल्लित होने दो।
    उल्लास है इनके जीवन में,
    अभी इन्हें न खोने दो।

    एक मीठा सा सपना है ये बचपन।
    न लगाओ इसमें कोई बंधन।
    जी लेने दो इन्हें इस सपने को।
    अगर यह सपना टूट गया,
    तो फिर कभी न वापस आएगा।
    और यह बचपन,
    अधूरा रह जाएगा।
    ©urvashi_s

  • urvashi_s 26w

    Some time...

    Tell me your story
    I will tell you mine.
    Let's sit together,
    And spend some time.
    It's been so long,
    Since we met.
    To spare some time!
    I know,
    It's hard to get.
    But,
    There is a longing,
    To hold your hand;
    To hear you say,
    "I understand."

    Time has drifted us apart
    But the memories,
    Still lurk in my heart.
    These memories,
    Has kept me alive.
    But now its seems,
    It's hard to live than to die.
    The only wish I have now,
    Is to spend some time.
    And to hear your story
    And tell you mine.
    ©urvashi_s

  • urvashi_s 27w

    Memories

    They bring smile on your face;
    Brings tears to your eyes.
    Away, the day fades
    But memories stays.
    Always there in your heart,
    Like a little gleam of hope
    In the dark.

    You sit obliviously,
    And they pass your eyes
    Like a swift bird in the sky.
    Your eyes become teary;
    And all you want to do again
    Is, live that life.

    You want to rejoice
    Those moments again.
    You want the days
    To remain the same.
    And want to walk,
    Once more,
    Down the same lane.
    ©urvashi_s