Grid View
List View
  • urvashi_s 33w

    Memories

    They bring smile on your face;
    Brings tears to your eyes.
    Away, the day fades
    But memories stays.
    Always there in your heart,
    Like a little gleam of hope
    In the dark.

    You sit obliviously,
    And they pass your eyes
    Like a swift bird in the sky.
    Your eyes become teary;
    And all you want to do again
    Is, live that life.

    You want to rejoice
    Those moments again.
    You want the days
    To remain the same.
    And want to walk,
    Once more,
    Down the same lane.
    ©urvashi_s

  • urvashi_s 35w

    A small girl's pain

    I barely knew how to speak,
    And you already made me dumb.
    I barely knew how to walk,
    And you made my legs numb.
    I saw things,
    But didn't understand.
    You gave me chocolates
    And you hurt me,
    With the same hand!
    Weren't you ashamed
    When I was crying?
    Didn't your soul shivered
    When you left me dying?

    My wings were growing
    To fly to a height.
    But,
    I have already flown somewhere
    Higher than the sky.
    I believe,
    I am in a happy place now.
    I won't return to this sinister place
    I take this vow.

    My family is crying before my body
    But they will soon realize,
    This place is not made for daughters.
    Because,
    With the hand you worship a goddess
    With the same we are slaughtered.
    The hands to protect us
    Has betrayed us very well.
    It's good to be inside,
    Rather than outside the shell.
    ©urvashi_s

  • urvashi_s 35w

    Your memories

    Don't torment me.
    My life is simple and easy.
    You come in my dreams,
    Leaving my eyes in tears.
    In my head,
    It's only your voice
    Which I can hear.

    You sleep peacefully.
    Dreaming of distant land.
    Where the grasses grow green
    And the rivers flow swiftly.
    But my peace has been destroyed,
    My mind is heavy with your thoughts,
    And tears flow in plenty.

    Your memories,
    Keeps my heart alive.
    But I want my feelings to die.
    I cannot bear this pain.
    Even if,
    Letting go of your memories,
    Leaves me in vain.
    ©urvashi_s

  • urvashi_s 36w

    Waiting for peace

    I am fighting,
    I am choking,
    I am shouting,
    And begging
    For some air to come.
    I am lost,
    In the trail of my own thoughts.
    Away from them,
    I want to run.
    I am maddening.
    It's frustrating.
    Depression is all around me.
    Trying to drown me
    In its great black sea.
    My life,
    It's playing the cards
    As it goes.
    But my patience level
    Has gone very low.
    Waiting and waiting,
    And still waiting as time flies.
    It's stressing,
    But no one realised.
    All I want now is some peace,
    And without this I cannot live.
    ©urvashi_s

  • urvashi_s 41w

    नहीं समझ सकते

    कभी उनकी आँखों से भी देखो,
    क्या सोचते हैं सोच के तो देखो।
    दिल न कचोट जाए तो बताना;
    आँखें नम न हो जाए तो बताना।
    तुम्हारी आँखों में आसूं न दिखे,
    ये सोच कर,
    अपनी खवाहिश दबा लेते हैं।
    दिल अपना टूट जाए,
    पर तुम्हारा न टूटने देंगे।
    खुद को खुद से सहारा देकर
    गम चुपा लेते हैं।

    तुम ये सोचते हो
    कि कुछ तो लोग कहेंगे।
    पर वो ये सोचते हैं,
    तुम क्या कहोगे;
    तुम क्या सोचोगे।
    लोगों की परवाह करना तो
    कब का छोड़ दिया,
    पर तुम्हारी कभी न छोड़ेंगे।

    दर्द भरे हैं दिल में,
    पर चहरे पर मुस्कान हमेशा रहती है।
    आँसू तो बस उनकी,
    अंधेरे में ही झलकती है।
    अंधेरे तो जैसे उनके दोस्त बन गए,
    और तुम उनसे दूर चल गए।
    चाहते थे वो तुम्हें अपना दोस्त बनाना
    पर तुम्हे क्या पता,
    कितना कतराते हैं,
    इस बात को बयान करने से।
    क्योंकि वो भी जानते हैं
    कि तुम कभी नहीं समझ सकते।
    ©urvashi_s

  • urvashi_s 43w

    Don't know when that day will come����

    Read More

    हैवानियत

    चूनर सरक पड़ी,
    लहु बह चला।
    आँसुओं की गूँज,
    उन्होंने भी सुनी।
    पर उन्हें क्या फर्क पड़ा!
    उन दरिंदो को न कोई डर लगा।

    सुनसान रात में,
    कायरों की तरह,
    एक माँ, एक बेटी, एक बहन,
    को उसने हाथ लगाया।
    धरती माँ का तो जैसे,
    रूह काँप चला।

    पछता रही होगी वो बदकिस्मत माँ,
    क्यों ऐसे दरिंदे को जन्म दिया।
    कोख में ही था तो उसे मार क्यों नहीं दिया।
    एक कलंक को जन्म देने से अच्छा,
    तो कोख सूनी रह जाती;
    किसी बेटी की इज्जत तो न लूटी जाती।

    एक लड़की होने से तो अब डर लगता है।
    कोई अपना अब अपना न लगता है।
    बस यही सोचती हूँ हर एक पल,
    कब वो दिन आयगा,
    जब बिना किसी डर,
    एक लड़की अकेले चल पायेगी।
    ©urvashi_s

  • urvashi_s 44w

    Her last song

    One morning I opened my eyes,
    To find a beautiful bird
    Glowing in white;
    Sitting on the window pane,
    Singing peacefully,
    Like it was going to rain.

    The creation of god,
    Seems close to the Lord.
    It seems,
    She was singing to him.
    And her peaceful song
    Had a pleasing rhythm.

    The mesmerizing tune,
    The song behold.
    It said the story
    That had been untold.
    The tune though pleasing,
    Had a tinge of sadness.
    It seems,
    From the light,
    She was moving
    Towards the darkness.

    I watched the bird
    As she finished her song.
    She closed her eyes,
    Embraced her death,
    And before I knew
    She was at rest.
    She sang her last song.
    And now,
    She was long gone.
    ©urvashi_s

  • urvashi_s 46w

    बींती यादें

    "मेरे साथ तुम्हारा रहना हो गया।"
    ये अलफ़ाज़ मेरी माँ ने कहा।
    दिल तो जैसे टूट सा गया।
    आँखों से आसूं थम न रहे थे।
    पर दिखाऊँ भी तो दिखाऊँ कैसे।

    जो बीत गया,
    वो लौट के न आयगा।
    जो बिताया,
    वो याद बन के रह जाऐगा।
    तरसोगे उन लम्हों के लिए,
    पर वो पल कभी न वापस आऐगा।

    तमन्ना बन के रह गई है दिल की,
    की एक बार,
    वो लम्हे़ं फिर लौट आयें।
    खुशी से जी लू वो पल,
    कहीं फिर न वो हाथ से छूट जाऐं।
    पर अफ़सोस तो है इस बात की,
    जो बीत गया,
    वो कभी न लौट के आयगा।
    जो बिताया,
    वो याद बन के रह जाऐगा....
    ©urvashi_s

  • urvashi_s 50w

    बेटियाँ

    लड़ रहे माता-पिता,
    हर रोज इस बात से
    कि बेटियाँ वरदान है;
    न कोई पाप है।

    हर किसी ने यह कहा
    "बेटियाँ हैं, बाँध दो।"
    नाम खराब कर तुम्हारा,
    इज्जत उछाल आयेंगी।

    बेटियाँ हैं,
    हाथ में कलम नहीं चूल्हा थमा।
    पढ़ लिख कर क्या करेंगी,
    कल को अपने घर ही जायेंगी।

    हर किसी के ताने सुनें।
    सिर्फ अपनों ने ही साथ दी।
    सिर उठा के जीना सिखाया;
    हिम्मत दी, विश्वास दी।

    बेटियाँ तो घर की शान है,
    माता-पिता की अभिमान है।
    जीने दो उन्हें भी,
    क्योंकि वह भी इंसान हैं।
    ©urvashi_s

  • urvashi_s 51w

    काटों पर चलना है

    फूलों से भरें राहों पर नहीं चलना।
    मुझे तो काटों पर चलना है।
    जमीन पर नहीं है रहना;
    अब तो आसमान में उड़ना है।

    अब तो जंजीरें भी न रोक पायेंगी।
    हिम्मत को न तोड़ पायेंगी।
    बहुत संघर्ष कर लिया अपने से;
    अब तो दुनिया से लड़ना है।

    करके बुलंद हौसला,
    अंगारों पर चलना है।
    हिम्मत बांध अपनी;
    मुकाम हासिल करना है।

    लोग क्या कहेंगे,
    अब उससे न कोई परवाह है।
    फूलों से भरें राहों पर नहीं चलना।
    मुझे तो काटों पर चलना है।
    ©urvashi_s