Grid View
List View
Reposts
  • vardhantesoro 5w

    पाबन्दियाँ तमाम लगी हैं कीं मिल नही पाएँगे ।
    सपनो में हीं सही पर दहलीज़ पर मेरी आया करो ।।

  • vardhantesoro 5w

    मै एक दिन बुद्ध होना चाहता हूँ।
    पर अभी दुनिया में गुम होना चाहता हूँ।
    @vardhantesoro

  • vardhantesoro 6w

    घोर संकट मन घबराये
    विपती हो जैसे
    रात कट ना पाए।
    काया राम को चाहे
    पर राम ना मिलने आए ।
    दूत भी सोया अर राम भी खोया
    ज्योत मन कीं भी लगा ना पाया
    तभी दूर गर्जन आ दौड़ीं
    बादल ले बारिश आ बोली
    जल बूँद गिरी तन पर आय
    लगा जीवन भी तब बताने सार
    सभी क्षणभंगुर हैं साथ ना कोय
    दुःख क्यूँ करे ये तो क्षण में खोय
    सोच सुख का सुख तब ही आ जाएगा
    बस तेज़ जगा मन को ,
    तन ख़ुद चमक जाएगा ।
    फुँहार माथे से ललाट आ लगी
    अब तो जैसे आनंद धारा आ बही
    सोचा, देव को पूजूँ जा मंदिर में
    बारिश में अभी कितना ख़ुश मैं
    शायद यही देव हैं
    जो मेरे घट मंदिर में।।
    @vardhantesoro

  • vardhantesoro 6w

    काफ़ी गहरा

    Read More

    इतना गहरा लिखा उसने
    मैं आघात हो गया ।
    फिर बस फ़िक्र हुई
    बिछुड़ना तो दूर हो गया।।

    @vardhantesoro

  • vardhantesoro 7w

    पहले ख़ुद से मिल लो ताकि ।
    दूसरों से मिलने में सरल हो जाओं ।।
    @vardhantesoro

  • vardhantesoro 7w

    क्यूँ मैं मनाऊँ उसे..।
    उसकी अपनी अदा हैं,
    ये मेरी भी अदा हैं,
    कुछ तो टूट रहा हैं,
    हम दोनो के बीच से
    ये उसे भी पता हैं
    मुझे भी पता हैं।।

  • vardhantesoro 8w

    ख़बर सुनी की कोई चल बसा हैं
    दुबक कर अहाते मे दौड़ कर आगया
    भीगी बिल्ली सा माँ की गौद में समा गया
    बोलीं !अरे पगले हुआ क्या हैं तुझे?
    सून्न ज़ुबा उनसे कुछ बोल नही पायी
    बस तसल्ली दी दिल को और
    सुकून की चादर सर ओढ़ आयीं।
    जो महसूस हुआ दिल को
    वो आराम बरसों की तलाश लगीं ।
    जग से लगी आग को जैसे
    पानी मिल गया..
    जाड़े में ठिठुरता पंछी जैसे
    कम्बल मे हो आ गिरा..
    जग को देखा अपने मन की आँखों से जब
    बड़ा ख़ुश था पाकर माँ की गौद को तब
    वो ढूँढ रहा था अपना आशियाना एक शक्स में
    अब बाहें फैलाए वो सो रहा था उसी अपने रब मे..

    @vardhantesoro

  • vardhantesoro 8w

    If suicide ever crosses your mind .
    Just know i would rather listen to your story than attend the funeral.

  • vardhantesoro 8w

    जितनी बार उसकी दी हुई क़समों को तोड़ा हूँ।
    यक़ीन मानो मैं उसके लिए उतनी बार रोया हूँ।।
    @vardhantesoro

  • vardhantesoro 9w

    दिन सप्ताह और सप्ताह महीने हो जाएँगे.।
    सिगरेट की आग में कई साल जल जाएँगे।।
    @vardhantesoro