vijjus8722

जीवंत हूँ मैं अपनी लेख से

Grid View
List View
Reposts
  • vijjus8722 5w

    न जाने क्यों आज उलझा हुआ सा है मन मेरा

    शायद तेरे दस्तक की आहट मालूम हो रही हो मुझे

    ओझल हो गए हैं सारे फ़साने न जाने अचानक से क्यों

    शायद फिर सारे शिकवे भूला मोहब्बत होने लगी है मुझे
    ©vijjus8722

  • vijjus8722 6w

    By unknown writer

    Read More

    ........☹️☹️☹️

    अब जैसा भी हूँ सँभालो मुझे

    बहुत टूट कर पहुँचा हूँ तुम्हारे पास .

  • vijjus8722 6w

    काश....

    काश पहले ही बता दिया होता तुमने अपने जज़्बात,

    यूँ हँसता खेलता मेरा जीवन वीरान चौखट सा नजर न आता


    काश......☹️
    ©vijjus8722

  • vijjus8722 7w

    मासूम

    बहुत मासूम हूँ मैं
    अपनी हदें भूल जाता हूँ

    तुम्हारे ज़िद को प्यार समझता हूं और
    मजाक को इश्क़ समझ बैठता हूँ
    ©vijjus8722

  • vijjus8722 7w

    नहीं आता है

    पता नही क्यों तुमपर
    अब वो पहले वाला प्यार नही आता है,

    वो रोज सुबह गुड मॉर्निंग का मैसेज देख
    मुस्कान नजर नही आता है

    कहीं छिप सा गया है तुम्हारा मेरा वो इकरार
    जो किया था हमने साथ में

    वो एकटक लगाई हुयीं नजरों में तुम्हारा दीदार नजर नही आता है
    ©vijjus8722

  • vijjus8722 8w

    सुना है तबियत पूछ रहे हो आजकल तुम मेरा गैरों से

    अरे, अभी इतना भी गैर न किया मेरे सिपहसालारों ने तुम्हें इस चौखट से

    बेखौफ चले आया करो दर पर हम मुहब्बत करने वाले हैं , दगा मरते दम तक न देंगे।
    ©vijjus8722

  • vijjus8722 8w

    आरामगाह

    आरामगाह सा दिल मेरा,

    और फितरत तेरी मेहमानों सी

    अब हर ज़र्रे की गुज़ारिश है जरा ठहर जा इस पल में

    और घुल जा मुझमें मीठी चाशनी सी।।
    ©vijjus8722

  • vijjus8722 8w

    तन्हाई की इंतेहा मत पूछिए जनाब ,

    हरे भरे बसंत में पतझड़ सा बीता है मेरा यौवन
    ©vijjus8722

  • vijjus8722 9w

    पीछे पलट कर देखा तो अजीब सा सन्नाटा पसरा हुआ था ,

    क्या खूब अंजाम मिला है मुहब्बत करने का
    ©vijjus8722

  • vijjus8722 10w

    रिश्तों का मोल

    एक कागज के हाशिये के तरह दरकिनार कर देता हूं अपनी खुशियों को ,

    सुना है रिश्तों को निभाते निभाते कई बार खुद नीलाम हो जाती है ये ज़िन्दगी ।
    ©vijjus8722