wearyearl

www.wearyearl.blogspot.com

A Story Writer ��Click On The Link Given Above�� ��Uljhan Part-4 Expected To Came On 29 Sept��

Grid View
List View
Reposts
  • wearyearl 21h

    Read All Parts Of उलझन ( ULJAHN ) = #weary_s5

    ������������������������������������

    -----/// PART- 3 ///-----
    18 सितंबर 1982,

    ये जन्मदिन मेरे लिए बहुत ही अनोखा था। मेरे पापा ने मुझे दुनिया की सबसे कीमती चीज तोहफे में दी थी। उन्होंने मुझे एक सुंदर सी डायरी दी थी और उन्होंने मुझसे ये कहा था कि बेटा *जिस तरह पतझड़ के बिना नए पत्ते नहीं आते ठीक उसी तरह कठिनाई और संघर्ष के बिना अच्छे दिन नहीं आते*

    पापा के बोले गए शब्द ना जाने मुझे कितनी ताकत देते थे।
    मेरी उम्र अब 15 साल हो गई थी। बीता सब कुछ अब मेरे लिए महज एक गुज़रा कल रह गया था। पापा के लाड़ ने मुझे समझदार और ताकतवर बनाया था तो वहीं मेरी मां की डाट ने मुझे गोल रोटियां भी बनाना सिखा दिया था। अब मुझसे सब बात करने लगे थे। आभा आंटी, सुनीता आंटी और दुर्गा आंटी ये सब अब बड़े अरसे बाद मेरे जन्म दिन पर मेरे घर आए थे और मेरी सबसे अच्छी दोस्त गुनगुन भी।
    मै सबको इतने सालो बाद देख कर बहुत खुश थी। लेकिन इस सब के बाद भी मेरे जेहन में ये बात आ ही जाती थी कि कहीं फिर तो मेरे दोस्त मुझसे बात करना छोड़ ना दे। मेरा ये साल काफी तूफानों से भरा पड़ा था। अगले दिन मुझे खबर लगती है कि मेरी दोस्त गुनगुन कि शादी हो रही है। मै ये सब सुन कर काफी अचंभित थी। मै सब केवल देख और सुन सकती थी।

    मुश्किल हमेशा से मेरा सफर रहा हैं,
    ये "ना करने" का टैग हमेशा मुझ पर रहा हैं,
    समाज मे इज़्ज़त रखने का "वरदान "हमेशा मुझे मिला है,
    होठों पर मुस्कान और आँसू को छुपाने का "संस्कार" मुझे मिला है।।

    इन रिवाज़ों और बोझ से परे मुझे अपनी जिंदगी जीने का नया सलिखा मिलने लगा था,
    छोड़ समाज को मैं, इस स्वतंत्र भारत की किताबो में अपना इतिहास रचने चली थी, मैं सबसे परे, अपने आप को मंजिल दिलाने चली थी,

    दुनियादारी को पीछे छोड़ मैं खुद से मिलने चली थी।

    To Be Continued ��������

    Do Follow If You Like = @wearyearl @bhawnapanwar

    Read More

    PART-3

    // I will keep updating all the information related to the story in my bio. //

  • wearyearl 3d

    Read All Parts Of उलझन ( ULJAHN ) = #weary_s5

    ������������������������������������

    -----/// PART- 2 ///-----

    महज 10 साल की उम्र में मुझे चार दिवारी में बंद कर दिया गया था ,मेरे साथ बेरहमी हई थी, मेरे साथ छेड़खानी हुई थी।
    दुनियादारी, अच्छा बुरा इस सबसे दूर मै अपने ही ख्वाब देखने वाली ,अब एक कमरे में बंद रहने लगी थी। मेरे साथ क्या हुआ था किसने क्या किया क्या था मुझे इस बात का थोड़ा भी एहसास नहीं था। पर ना जाने क्यों मेरे मोहल्ले के दोस्त, अब मुझसे मिलने नहीं आते थे।
    मेरी मोहल्ले की वो औरतें जो मुझे देख कर मुस्कुराती हैं वो अब मुझे देखती भी नही थी। वो अब मेरे करीब भी नहीं आती थी। मेरी माँ भी अब मुझसे घर के कामो में व्यस्त रखने लगी थी।
    मैंने अपनी मां और दोस्तो को तो परेशान भी नहीं किया था। फिर भी ना जाने क्यों सब मुझसे दूर रहने लगे थे। मेरी मां मुझे अब मुझे कम बात करना सिखाने लगी थी , पर इस सबके बीच मेरे पापा ने मेरी मा और समाज से लड़ कर मेरा दाखिला एक बार फिर स्कूल में करा दिया था।
    नहीं ऐसा नहीं था कि मेरी माँ मुझसे प्यार नहीं करती हैं, पर वो थोड़ा डरती थी समाज से,ना जाने किस बात का डर था उन्हें।

    मै अब 12 साल की हो गई थी। मै अब कक्षा 7 में पढ़ रही थी। थोड़ी थोड़ी समझ भी मुझे आने लगी थी। मै चीज़ों को समझने लगी थी। लेकिन मेरे साथ जो पिछ्ले 2 सालो से चला आ रहा था, उसे मै अब तब नहीं समझ पाई थी। क्योंकि शायद किसी ने मुझे उस बारे में बताने, उस बारे में मेरी समझ खोलने से जायदा मुझे नज़रबंद करना सही समझा था।
    खैर, एक बार फिर मै अपने सपने बुनने लगी थी। अब वो पिछड़ा साल अब मेरी लिए कोई कहानी सी बनने लगा था। मुझे डाक्टर बनना था। और मै उसी सपने को बुना करती थी। लेकिन मेरी माँ ये सब समझाती ही नहीं थी। उन्हें बस मुझसे रोटियां बनवानी थी। अब सब कुछ ठीक हो गया था। लेकिन शायद मेरी किस्मत को मेरी खुशी मंजूर नहीं थीं।

    क्यों रुकना हैं, क्यों झुकना हैं,
    बेड़ियों को पार कर मुझे तो अपना आसमां भी खुद बनाना हैं,
    ज्वाला बन मुझे तो खुद में आग भी लगानी हैं और शीतल जल बन मुझे जिंदगी में ढहराव भी खुद ही लाना हैं।

    To Be Continued....������

    Read More

    PART- 2

    // I will keep updating all the information related to the story in my bio. //

  • wearyearl 1w

    Read All Parts Of उलझन ( ULJAHN ) = #weary_s5
    // I will keep updating all the information related to the story in my bio. //

    ������������������������������������

    -----/// भाग - 1 ///-----

    सपने उस मुकाम की तरह होते हैं जहाँ पहुँच पाना बड़ा मुश्किल होता हैं परंतु फिर भी वो अपने होते हैं।
    कुछ इस तरह ही मेरी कहानी हैं, जिसे में खुद अपने शब्दों में लिख रही हूं।।
    समाज आज भी हमारा न था और न ही कल हमारा होगा।।

    18 सितंबर 1967, मतलब भारत स्वतंत्र हो गया था फिर भी समाज की बंदिशों और बेड़ियों में बंधी गन्दी और वो बदबूदार सोच उस वक्त भी सभी के जहन में बसती थी।
    ये सच था कि भारत पूर्ण रूप से आज़ाद हो गया था परन्तु फिर भी वो आजादी, वो स्वंतत्रता जो आज भी कही न कही हमे चाहिए वो तब भी न थी और आज भी नही।। बस हू-ब-हू मेरी कहानी भी कुछ ऐसी ही बंदिशों से जकड़ी हुई थी।।

    यह वह दौर था जब लड़की होना एक पाप, अभिशाप माना जाता था। लड़की का जन्म होना मतलब किसी कलंक का जन्म माना जाता था। उस वक्त लड़कियो को किसी भी तरह की महत्वता नही दी जाती थी और उन्हें बस पैदा होने के लिए कोसा जाता था।।
    ये ऐसा समाज था जो आजादी के बाद भी नहीं बदल सका और शायद अभी तक नहीं बदला ।।
    मेरा जन्म भी उन्हीं हालातों में हुआ और उन्हीं सालों में जब लड़की होना एक अभिशाप था, पर फिर भी मैं सभी से परे, अपने लिए सब से लड़ते हुए, अपने हौसले को नई रौशनी ,नई उम्मीदे देते हुए, जीतने का दृढ़ निश्चय कर चुकी थी।।
    मैं कोई चर्चित या सरकारी अफसर की बेटी नही हूँ औऱ न ही एक ऐसी लड़की जिसने कुछ बहुत बड़ा कमाया हो।
    मैं सम्मानित परिवार की बेटी थीं और उन्हीं बंदिशों में मेरा लालन पालन हुआ था।।

    आप जानना चाहेंगे मैं कौन!
    मै गौरी (Gauri) और
    इस कहानी कि मुख्य चरित्र।

    जानती हूं शोर काफी कम था जब मैं इस दुनिया मे आई थी।
    उस दिन बज रहे ढोल नगाड़े की आवाज़ भी थोड़ी कम थी।
    उस दिन बट रही मिठाई में मिठास थोड़ी कम थीं।
    और उस दिन मेरे आने का मलाल भी कुछ कम था।
    मैं तो तब ही समझ गयी की जिन्दगी आसान नही हैं।
    क्योंकि एक लड़की होना आसान नही है।।

    महज 10 साल की उम्र में मुझे चार दिवारी में बंद कर दिया गया था

    To Be Continued....

    ������������������������������������

    HOPE YOU LOVED IT.
    Please Don't Forget To Follow Both The Writers @wearyearl @bhawnapanwar

    Read More

    Part -1

    // This Is A Fiction Story Of A Young Girl. This Story Contains Some Strong Words On Some Places To Express The Right Issues. This Story Not Means To Spread Any Negativity And Violation Against Any Gender Or Community. //

  • wearyearl 1w

    ����������हिंदी दिवस के शुभ अवसर पर����������

    ⚠️⚠️⚠️Ye Story Hindi Writting Me Aayegi.. So Wo Sabhi Log Jinko Hindi Nahi Aati Unko Wholeheartedly Sorry��.


    �� I'LL WRITE STORY RELATED UPDATES IN MY BIO
    �� I'M USING THIS TAG #weary_s5 for the story.��

    ���� �������������������������� �������� ������������������ ������������
    @bhawnapanwar ❤️✌️


    ��​��​��​��​��​��​ ��​��​��​��​

    Read More

    .

  • wearyearl 2w

    Phir Kuch Naya✌️...Hope You Like It..❤️

    Read My Poems And Lines #weary_words

    ----------------------------------------------------------------

    Dil Kitna bhi chahe Magar
    Use Chup Rehana Sikha Dena
    Awara Hawaon Se, Tum
    Kahin Dil Na Laga lena

    Chand Dinon Ki khushiyon ke badaulat
    Umra Bhar Ke Gam Milte Hain
    En Rahon Par Chal Kar Jo jakhm mile
    Woh Na kabhi Silte Hain

    Ek Saaya har waqt sath chalta hai
    Dil Naya Khwab bunne Se darta Hai
    Kuch meethi Yaadein seene mein dubki rahti Hain
    Aankhon mein udasiyan aansu ban Bhati Hain

    Tum Apne Es Jeevan Ko
    Dukh ka sansar na banaa lena
    Awara hawaon Se, Tum
    Kahin Dil Na Laga lena


    -wearyearl (rohit-srivastav)
    -asy

    ------------------------------------------

    If You Like Don't Forget To Follow For More Write-up ❤️✌️

    Read More

    Awara hawaon Se, Tum
    Kahin Dil Na Laga lena ///

    -wearyearl

  • wearyearl 2w

    Random��...����

    Read My Poems and lines #weary_words

    Do Follow If You Like : @wearyearl��

    Read More

    baarish

    Zi Bhar Kar Rona Chahta Hun,
    Wo Sare Ehsaas dafnana Chahta Hu.
    Hui Jo Baarish Unki Galiyon Me,
    Waha bas Kuch Waqt Bitana Chahta Hu.


    -wearyearl

  • wearyearl 3w

    **Sorry If You Find Anything Wrong In This.


    °°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°

    Mil Gai Aazadi Ya Thodi Abhi Baaki Hai
    Hogaye Aazad Ham, Ya Aur Ladaai Baaki Hai

    Jaal Rahi Betiyan, Maar Ab Bhi Jaari Hai
    Masumo ko Lathiyan, Gunehgaro Ko Sewaiyan jaari hai

    Duskarm ke Aakde Badh Rahe, Sarkar Hamari Pasth Hai
    Wahi Kuch Mahan-nubahv, Hindu Muslim Me Mast Hai

    Tut Raha Har Ek Stambh, Par Kamai Unki Jaari Hai
    Roo Rahe Desh Ke Chhatra, Par Charcha Rhea Par Jaari Hai

    Haiwaniyat Hadd Se Paar Hui, Insaniyat Sharmsar Hai

    Kya Hoga Nayay, Kya Milegi Gunehgaro ko Fasiyan
    Ya Uhi Milegi Laasse , Aur Jalegi Hamari Betiyan

    Dub Rahi Buddhi Hamari, Bazaar Ashlilta Se Bhare Padhe Hai
    Adhunikata Ki Hodh Me, Na Jane Ham Kis Aor Badh Chale Hai

    Kya Phir Banana Hoga, Wo Tuti Murat Manavta Ki
    Ya Kholna Hoga Wo Kali Paati, Us Tarazu Wali Murat Ki

    Mil Gai Aazadi Ya Toddi Aabhi Baaki Hai
    Hogaye Aazad Ham, Ya Aur Ladaai Baaki Hai


    -wearyearl (rohitsrivastav)
    -asy


    Read my poems and lines #weary_words

    #repost #pod #mirakee

    Do Follow For If You Like : @wearyearl

    Read More

    ©wearyearl

  • wearyearl 3w

    Maari Jave Gi Ya Beech Di Jave Gi
    Duniya Ke Haywani Hatho, Chhin Li Jave Gi

    Hoga Jeena, Rakh Kar Chere Par Hasi Joothi Si
    Hoga Chalna, Baator kar Jholi Aasuyon Ki

    Hoga Ladna, Ek Har Pal Aapano Kismat Se
    Hoga Jeetna, Laaz Aapano Eh Logan Se

    Hoga Uthna, Eh Bediyan Sansari Logo Ki Si
    Hoga Bhulna, Eh Duniya Sansari Riwazan Ti

    Nahi Te Sareaam Nilaam Kar Di Jave Gi
    Shuk Te Aagosh Me Jala Hi Jave Gi

    Kham Kha Charita-Hin Bana Di Jave Gi

    Na Aaiyo Re Maari Betiyan Eh Sansar Me
    Maari Jave Gi Ya Beech Di Jave Gi

    Na Aaiyo Re Maari Betiyan Eh Sansar Me..


    -wearyearl (rohitsrivastav)


    Do Follow If You Like : @wearyearl

    Reas my poems and lines #weary_words

    #mirakee #pod #repost
    @mirakee @writersnetwork

    Read More

    ©wearyearl

  • wearyearl 3w

    .

  • wearyearl 3w

    ���� �������� ������ ���������� ���� �������� ���������� ���������� #wearyjaal

    ������������������������������������

    ᴛʜɪs ᴘᴀʀᴛ ᴄᴏɴᴛᴀɪɴ ᴀʙᴜsɪᴠᴇ ᴡᴏʀᴅs. ᴅᴏɴ'ᴛ ᴛᴀᴋᴇ ᴀɴʏ ᴡᴏʀᴅ ᴏɴ ʏᴏᴜʀsᴇʟғ.

    ��​��​��​�� ��​��​��​

    Recap

    [[Abhay got to know that Siya and everyone had planned a meeting along with Aadi..
    Then Abhay calls Timira and they got shocked to hear it..]]

    And then..

    ���� ������ �������� �������� ���� ���������� �������� ������, �������� ������������ ������������ ����.

    Abhay: Now tell me…shocked..!! (I can see that thunder inside you all)
    What'd you think..? Am I dumb.. I don't have any idea about your plans…
    You fools.… hahaha…
    Sanket: how it happened..?? (Everyone was looking at him with silence and shock)
    Abhay: Hahahaha .. I loved these stress marks on your head..

    And then Aditi came from behind..

    Abhay: Siya .. Look Timira urf Aditi is right here in front of you..
    Siya was shocked to see her

    Abhay angrily : Now say..?
    (Nahi toh 6 ki 6 idhareech utaruga)
    They looked at each other and started telling their stories.…

    Sanket : you were cheating on me.. you have an affair with my girlfriend Aditi... I know everything...
    Abhay: Affair... (chu** gaye ho kya,
    Bewakoof insaan.. iska affair mujhse nahi aadi se chal raha hai)
    Abhay: And Madam, my baby.. what's your story now..
    Siya: I got angry when Sanket told me about your shit affair.. I cried a lot ... You were cheating on me I can not stand that you are not mine..I hate you Abhay
    Abhay: You are the biggest fool... even bigger than this Sanket.. You have ended 2 years of love with just 1 misunderstanding... Don't you think you should at least clear me about all this..
    hate you even more my love..
    Siya - :(
    Abhay - So Parth what's your issue..??
    Parth: You treat me as your servant...
    (Do this, do that..) and Siya is like my sister..

    Abhay: Ohhh alright alright...
    Good going.. Stories are just amazing.. what should I say now..??
    Look, whatever you guys had done, I know you can't do that by yourself...Come on tell me who's the mastermind ...

    (Abhay shouted and point gun towards Siya)
    Siya Afraid: Aadi... Aadi had planned all this..

    Abhay to Aadi : You'll say anything… or should I tell my gun to speak..??
    Aadi: You've killed my brother during last year's election ... * Apun ko bahut dard hua.. man kiya ki udhar eech gadh du tereko*
    But then I made a plan… made a trap…
    " made JaaaL " hahaha…
    Abhay: Oooo bsdk$$%&£
    (chiyaaro mat.. rassi jal gayi lekin akad nahi gai)
    Aadi with huge anger: Then I create misunderstanding in Sanket's mind... that your affair is going on with Aditi .. Editing me and Aditi's pic by fitting your face into it... Then the fire started burning inside Sanket.. same as that of Lebanon.. and the same he told Siya where I completed my mission..
    They started planning the best revenge for you..
    Like this I have created my trap..
    the JaaL for you.. But my trap couldn't be wasted..
    Aadi speedly walked towards Abhay with huge frustration..
    And the sound came
    $BOOOOOOOOMM
    (Abhay shot Aadi on the spot)

    Hearing all of it, Siya, Sanket, and Parth started crying.. They realised..
    yes aditi lost her bf too...

    Abhay blowings his gun..
    said now JAAAAL over....

    Parth : But Bro how do you come to know all this?
    Abhay laughing : I didn't write the whole conversation with Aditi in part 5... Hahahahaha....
    You are still a kid.


    �� �������� �������������� ������������ ���� ���� ����-������������ ����������������.

    Thank You @khamoshii

    ��​��​��​ ��​��​��​

    ������������������������������������

    �������� ������ �������������� ����.

    ��​��​��​��​��​ ��​��​��​

    Read More

    The end